उत्तर प्रदेश विधानसभा के उपाध्यक्ष के चुनाव में समाजवादी पार्टी को भाजपा ने करारा झटका दिया है। इस चुनाव में भाजपा ने सपा के ही बागी विधायक नितिन अग्रवाल को अपना समर्थन देकर उपाध्यक्ष का चुनाव जितवा दिया। हाल ही में नितिन अग्रवाल ने सपा को छोड़कर भाजपा जॉइन की थी। अग्रवाल ने सपा उम्मीदवार नरेंद्र वर्मा को हराया।

विधानसभा अध्यक्ष ह्रदय नारायण दीक्षित ने बताया कि कुल 368 सदस्यों ने मतदान किया जिसमें से 364 मत वैध पाये गये । इसमें से नितिन अग्रवाल को 304 तथा नरेंद्र वर्मा को 60 मत मिले। इससे पहले लगभग 11.45 बजे मतदान शुरू हुआ जो दोपहर तीन बजे तक चला और करीब चार बजे परिणाम घोषित हुआ।

विपक्षी बसपा और कांग्रेस के विधायकों ने चुनाव का बहिष्कार किया। इस मतदान में कांग्रेस को भी झटका लगा है। रायबरेली सदर सीट से विधायक अदिति सिंह के भाजपा समर्थित नितिन वर्मा के पक्ष में मतदान करने की खबर है।

तीसरे कार्यकाल के विधायक नितिन अग्रवाल राज्य के पूर्व मंत्री नरेश अग्रवाल के बेटे हैं, जिन्होंने हाल ही में समाजवादी पार्टी से भाजपा का दामन थामा है। वह पूववर्ती समाजवादी पार्टी की अखिलेश यादव सरकार में मंत्री थे।

परंपराओं के अनुसार, प्रमुख विपक्षी दल के एक विधायक को विधानसभा का उपाध्यक्ष बनाया जाता है। लेकिन उसमें भी मात खाने से समाजवादी पार्टी को करारा झटका लगा है। उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव से ठीक पहले हुए इस चुनाव से समाजवादी पार्टी को लगे झटके ने अखिलेश यादव के मैनेजमेंट को लेकर भी सवाल खड़े किए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *