10.1 C
Delhi
Friday, January 28, 2022

पांच साल पहले दीवारों में चुनवाया जाता था सरकारी योजनाओं का धन, हमने जेसीबी से निकलवाया

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 5 साल पहले सरकारी योजनाओं का धन दीवारों में चिनवाया जाता था। जिन भ्रष्टाचारियों के पास यह रकम जाती थी, वे यह काम करते थे। हमने इस धन को जेसीबी से दीवार तोड़कर निकलवाया। डबल इंजन की सरकार में तेजी से विकास कार्य हो रहे हैं। सीधे लाभार्थियों के खातों में धनराशि जा रही है।

सीएम योगी आदित्यनाथ लोक भवन में आयोजित 3800 करोड़ रुपये से अधिक की नगरीय विकास परियोजनाओं के लोकार्पण व शिलान्यास कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे। उन्होंने कानपुर में पड़े डीजी जीएसटी इंटेलीजेंस के छापे का जिक्र किए बिना कहा कि मैं सोच रहा था कि इस धन को निकलवाने के लिए कहीं डाइनामाइट न लगाना पड़े। साथ ही कहा कि डबल इंजन की सरकार और दृढ़ इच्छा शक्ति का यह परिणाम है कि समाज के अंतिम पायदान तक योजनाओं का लाभ पहुंच रहा है।

सीएम ने कहा कि पीएम के 5 खबर डॉलर की अर्थव्यवस्था के सपने को पूरा करने के लिए हम सबको योगदान देना होगा। पौने पांच साल के कार्यकाल में नगर निकायों की संख्या में उल्लेखनीय वृद्धि की गई है। पांच साल पहले तक यूपी के शहर गंदगी के ढेर हुआ करते थे। खराब ट्रैफिक व्यवस्था उनकी पहचान थी। पीएम की दूरदर्शिता के चलते अब आमूलचूल बदलाव आया है। देश के स्वच्छता में टॉप टेन शहरों में 5 यूपी के हैं। गोंडा तक इसमें शामिल हो चुका है। कूड़े से हम ऊर्जा और खाद बनाने का काम कर रहे हैं।

योगी ने कहा कि स्मार्ट सिटी बनाने में हम देश में अव्वल हैं। 10 नगर निगम केंद्र की योजनाओं केतहत और शेष 7 राज्य की योजनाओं से स्मार्ट बनाए जा रहे हैं। इंटीग्रेटेड ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम का इस्तेमाल करके सुरक्षा और यातायात व्यवस्था में काफी सुधार हुआ है। कोविड पर नियंत्रण के लिए हमने इस सिस्टम का इस्तेमाल किया। शहरों में रोजगार के अवसरों में वृद्धि हो रही है। शहरों में इलेक्ट्रिक बस डिपो की स्थापना की कार्यवाही चल रही है।

योगी ने अयोध्या के एक दलित परिवार का उदाहरण सामने रखते हुए कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना से लोगों के जीवन में बड़ा बदलाव आया है। प्रदेश में 43 लाख परिवारों को आवास उपलब्ध कराए गए हैं। नगरीय क्षेत्रों में हर घर नल योजना, सीवर लाइन, एसटीपी, सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट की योजनाएं लागू की गई हैं। सार्वजनिक यातायात सेवा को बेहतर किया गया है। डबल इंजन की सरकार जिस दिशा में आगे बढ़ रही है, नगर निकायों की सरकार भी उस दिशा में बढ़ती है, तो बेहतर परिणाम सामने आते हैं।

पहले अंधेरे में डूबे रहते थे गांव और शहर

सीएम ने कहा कि पांच साल पहले शहर, कस्बे और गांव अंधेरे में डूबे रहते थे। आज बिना किसी भेदभाव को सभी को पर्याप्त बिजली मिल रही है। पहले आवास के लिए 20-25 हजार रुपये ही मिलते थे, उसकी भी बंदरबांट होती थी। लेकिन अब ऐसा नहीं है। उन्होंने नगर निकायों के जन प्रतिनिधियों से कहा कि वे जनता के जीवन स्तर को ऊंचा उठाने में महत्वपूर्ण योगदान दे सकते हैं। उन्होंने कहा कि टैक्स की व्यवस्था ऑनलाइन करके नगर निकाय और भी बेहतर कार्य कर सकते हैं। साथ ही कहा कि बेहतर बुनियादी सुविधाओं के लिए सभी 774 नगर निकाय एक दूसरे से प्रतिस्पर्धा करें। आईटीएमएस का बेहतर इस्तेमाल करके यूपी को 1 खरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने में योगदान दें।

नए मुख्य सचिव की भूरि-भूरि की प्रशंसा

सीएम ने नए मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा की प्रशंसा करते हुए कहा कि पहले वे केंद्र में नगरीय विकास की योजनाओं को आगे बढ़ाते थे। यूपी के निवासी होने की वजह से यहां के विकास कार्यों को खास तरजीह देते थे। अब वे यहां की नौकरशाही के शीर्ष पद पर आ गए हैं। आप सभी लोगों को उनका मार्गदर्शन मिल सकेगा। इससे विकास कार्यों में और भी तेजी आएगी।

आशुतोष टंडन ने बताईं उपलब्धियां

नगर विकास मंत्री आशुतोष टंडन ने स्वागत भाषण रखते हुए अपने विभाग की योजनाओं को विस्तार से रखा। इस अवसर पर कानपुर नगर निगम, सरकार और जर्मनी की एक संस्था के बीच विकास के लिए त्रिपक्षीय एमओयू भी हुए। लखनऊ की मेयर संयुक्ता भाटिया, गाजियाबाद की मेयर आशा शर्मा, मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा, अपर मुख्य सचिव नगर विकास रजनीश दुबे और अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल भी मौजूद रहे।

सीएम के हाथों इन योजनाओं का हुआ लोकार्पण व शिलान्यास

प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी के 58903 लाभार्थियों को 500 करोड़ से अधिक की धनराशि का ऑनलाइन हस्तांतरण। स्मार्ट सिटी मिशन, अमृत मिशन, स्वच्छ भारत मिशन की योजनाएं। अयोध्या एवं मथुरा-वृंदावन नगर निगम के कार्यालय भवन और नगर निगम की विभिन्न परियोजनाएं, 651 स्थानीय निकायों में 1000 फ्री वाई-फाई जोन का लोकार्पण व शिलान्यास। प्रदेश के 7 शहरों में 75 इलेक्ट्रिक बसों का फ्लैग ऑफ।

anita
Anita Choudhary is a freelance journalist. Writing articles for many organizations both in Hindi and English on different political and social issues

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,143FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles