10.1 C
Delhi
Friday, January 28, 2022

हरियाणा में कोरोना, बिना अनुमति किसी अस्पताल का फीडर नहीं होगा बंद, आपात नंबर जारी

कोरोना महामारी के बढ़ते प्रकोप को रोकने के लिए हरियाणा सरकार ने प्रयास तेज कर दिए हैं। प्रदेश के अस्पतालों में निर्बाध बिजली आपूर्ति की जाएगी। किसी अस्पताल का फीडर बिना अनुमति के बंद नहीं कर सकेंगे। बिजली अधिकारियों को हिदायतें जारी कर दी गई हैं। आपातकालीन स्थिति में संपर्क के लिए फोन नंबर जारी किए हैं। स्वास्थ्य केंद्रों की आपूर्ति निरंतर रखी जाएगी। हर जिले में नियंत्रण कक्ष भी बना दिए गए हैं।

उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम के प्रबंध निदेशक पीसी मीणा ने कहा कि अधीक्षक और कार्यकारी अभियंताओं को बिजली आपूर्ति कें संबंध में उचित दिशा-निर्देश दिए गए हैं। आपातकालीन नंबरों की निगरानी सर्कल स्तर पर नामित नोडल अधिकारी करेंगे। सर्कल और मंडल अधिकारी स्वयं निरंतर बिजली आपूर्ति और किसी की प्रकार की तकनीकी खराबी की निगरानी के लिए जिम्मेदार होंगे। व्हाट्सएप ग्रुप पर अधिकारी प्रतिदिन की बिजली आपूर्ति, सामग्री या जनशक्ति की उपलब्धता संबंधी सूचनाएं सांझा करेंगे ताकि किसी भी आपात स्थिति से समय रहते निपटा जा सके।

जिला अस्पतालों, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों (सीएचसी), प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों (पीएचसी), ऑक्सीजन निर्माण औद्योगिक इकाइयों व अन्य स्वास्थ्य केंद्रों में बिजली आपूर्ति की निरंतरता बनाए रखने के लिए पंचकूला और रोहतक जोन में जिला स्तर पर नियंत्रण कक्ष प्रभावी कर दिए हैं। आपात नंबरों के अलावा बिजली से संबंधित किसी समस्या के लिए विभाग के टोल फ्री नंबर 1912/18001801550 पर संपर्क कर सकते हैं।

पंचकूला व रोहतक जोन के आपात नंबर

पंचकूला 98881-23472, पानीपत 93549-18979, अंबाला, 93547-26365, सोनीपत 93547-26402, कुरुक्षेत्र 93156-09787, रोहतक 93547-26582, यमुनानगर 93547-26363, झज्जर 93151-10304, कैथल 93547-26182, करनाल 93547-26290

कोरोना का कहर बढ़ा, 3541 नए मामले आए, दो संक्रमितों की मौत

हरियाणा में कोरोना का कहर बढ़ने लगा है। शनिवार को प्रदेश में 3541 नए मामले सामने आए और दो संक्रमितों की मौत हुई। गुरुग्राम, फरीदाबाद और पंचकूला में सबसे अधिक नए केस मिले हैं। रिकवरी दर घटने लगी है और प्रदेश में संक्रमण दर पूर्व की तुलना बढ़कर 5.30 फीसदी हो गई है। 8 जनवरी को ओमिक्रॉन का कोई नया संक्रमित नहीं मिला। हालांकि, कोराना के नए स्वरूप ओमिक्रॉन का संक्रमण डेढ़ फीसदी की दर से बढ़ रहा है।

मुख्यमंत्री रोजाना स्वास्थ्य मंत्री और अफसरों से ले रहे फीडबैक

मुख्यमंत्री मनोहर लाल रोजाना स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज व स्वास्थ्य विभाग के अफसरों से फीडबैक ले रहे हैं। उसके अनुसार ही आगामी रणनीति तय की जा रही है। उन्होंने सभी संबंधित अधिकारियों को अलर्ट पर रखा हुआ है। महामारी के बीच वह डॉक्टरों को हड़ताल पर नहीं जाने देंगे। उनके पास स्वास्थ्य विभाग से डॉक्टरों की मांगों संबंधी फाइल स्वीकृति के लिए पहुंच चुकी है। मुख्यमंत्री का कहना है कि डॉक्टरों की मांगों को सहानुभूति पूर्वक पूरा करेंगे। आपदा के समय वे हड़ताल पर जाने का विचार मन में लाएं। यह मानवता की सेवा का समय है।

anita
Anita Choudhary is a freelance journalist. Writing articles for many organizations both in Hindi and English on different political and social issues

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,143FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles