10.1 C
Delhi
Wednesday, January 26, 2022

CRPF कोबरा यूनिट के 38 जवान कोरोना संक्रमित, CM भूपेश बघेल बोले- अभी लॉकडाउन की स्थिति नहीं

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित क्षेत्र सुकमा जिले में तैनात सीआरपीएफ के कोबरा यूनिट के 38 जवान कोरोना संक्रमित मिले हैं। सभी का कैंप में ही इलाज चल रहा है। सभी जवान कोबरा यूनिट के 202 बटालियन से जुडे़ हैं। रविवार को देश के अन्य हिस्सों से जवान सुकमा पहुंचे थे।

मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी सीवी बंसोड ने बताया कि तेमेलवाड़ा कैंप में तैनात 75 जवानों का रैपिड एंटीजन टेस्ट किया गया, जिसमें 38 का परिणाम पॉजिटिव आया। बाकी जवानों के नमूने को जांच के लिए जगदलपुर में भेजा गया है।

राज्य में कोरोना के बढ़ते मामले पर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि “मैंने अधिकारियों को उचित कदम उठाने का निर्देश दिया है और हवाई अड्डों, रेलवे स्टेशनों पर कोरोना की जांच बढ़ाने के प्रयास किए जा रहे हैं। हम स्थिति पर लगातार नजर बनाए हुए हैं। अभी तक लॉकडाउन की स्थिति नहीं है।”

छत्तीसगढ़ में सोमवार को कोरोना वायरस से 698 और लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है, जिससे सोमवार तक कोविड-19 की चपेट में आने वालों की कुल संख्या 10,09,454 हो गई है। राज्य में पिछले एक हफ्ते से लगातार कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं।
स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि सोमवार को 11 लोगों को संक्रमण मुक्त होने के बाद अस्पतालों से छुट्टी दी गई है, जबकि 18 लोगों ने घर में पृथक-वास की अवधि पूरी की। राज्य में सोमवार को कोरोना वायरस से संक्रमित किसी भी मरीज की मृत्यु नहीं हुई है।

अधिकारियों ने बताया कि सोमवार को रायपुर से 222, दुर्ग से 43, राजनांदगांव से 18, बालोद से तीन, बेमेतरा से चार, कबीरधाम से नौ, धमतरी से पांच, बलौदाबाजार से पांच, गरियाबंद से दो, बिलासपुर से 133, रायगढ़ से 103, कोरबा से 39, जांजगीर-चांपा से 26, मुंगेली से 13, गौरेला-पेंड्रा-समरवाही से चार, सरगुजा से 12, कोरिया से नौ, सूरजपुर से 22, बलरामपुर से दो, जशपुर से 13, सुकमा से पांच, कांकेर से पांच और बीजापुर से दो मामले सामने आए हैं।

उन्होंने बताया कि छत्तीसगढ़ में अब तक 9,93,911 मरीज इलाज के बाद संक्रमण मुक्त हो गए हैं। राज्य में 1942 मरीज उपचाराधीन हैं। राज्य में वायरस से 13,601 लोगों की मौत हुई है।

 

anita
Anita Choudhary is a freelance journalist. Writing articles for many organizations both in Hindi and English on different political and social issues

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,136FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles