गिरिडीह में शुक्रवार को दर्दनाक हादसा हो गया। करमा पर्व पर बालू निकालने के लिए डैम पर पहुंची तीन किशोरियों की डूबने से मौत हो गई। इनमें दो रिश्ते में बुआ-भतीजी लगती थीं। बताया जा रहा है कि एक दूसरे का हाथ पकड़कर तीनों डैम में उतरी थीं। हादसा देवरी थाना क्षेत्र के गादिकला गांव में हुआ।

गांव के त्रिभुवन यादव की 16 वर्षीय बेटी काजल कुमारी, त्रिभुवन के भतीजे किशोर यादव की 15 वर्षीय बेटी रेणु कुमारी और लक्ष्मण स्वर्णकार की 17 वर्षीय बेटी मुनिता कुमारी करमा पर्व के लिए बालू निकालने के लिए डैम पर पहुंची थीं। यहां तीनों एक-दूसरे का हाथ पकड़कर डैम में उतरी थी। गहराई का अंदाजा नहीं लगने के कारण सबसे पहले रेणु गहरे पानी में डूबने लगी। आपस मे अपना हाथ पकड़े होने के कारण तीनों एक-एक कर के गहराई में खिंचते चली गईं।

तीनों के साथ कई अन्य लड़कियां भी डैम पर गई थीं। तीनों को डूबता देख अन्य सहेलियों ने शोर मचाना शुरू कर दिया। शोरगुल सुनकर ग्रामीण जुटे लेकिन तब तक तीनों ओझल हो चुकी थीं। करीब एक घंटे के बाद तीनों युवतियों का शव डैम से बाहर निकाला गया। घटना की सूचना मिलने पर देवरी थाना प्रभारी संतोष कुमार मंडल दल-बल के साथ घटनास्थल पर पहुंचे और आवश्यक कार्रवाई में जुट गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *