त्रिपुरा के गोमती जिले में बीजेपी और लेफ्ट से जुड़े छात्र संगठन DYFI के बीच हिंसक झड़प हुई है. स्थानीय मीडिया के मुताबिक सीपीएम की छात्र इकाई एक रैली निकाल रही थी, इसी दौरान बीजेपी कार्यकर्ताओं के साथ झड़प हो गई. झड़प में एक बीजेपी कार्यकर्ता गंभीर रूप से घायल है, जबकि लेफ्ट के भी दो तीन घायल हैं. हिंसा के बाद दोनों पार्टियां एक दूसरे पर आरोप लगा रही हैं.

त्रिपुरा के गोमती जिले के उदयपुर शहर में उपद्रव उस वक्त हुआ, जब माकपा की युवा शाखा डेमोक्रेटिक यूथ फेडरेशन ऑफ इंडिया ने जुलूस निकाला और इस दौरान कुछ कार्यकर्ताओं ने सत्तारुढ़ बीजेपी के कार्यकर्ता पर कथित तौर पर हमला किया, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गए. पुलिस ने बताया कि पास में ठहरे बीजेपी कार्यकर्ताओं के एक समूह ने जवाबी कार्रवाई करते हुए डीवाईएफआई के जुलूस पर हमला किया. हिंसा के बाद सीपीएम नेता सीताराम येचूरी ने आगजनी का एक वीडियो ट्वीट करके बीजेपी पर आरोप लगाए.

पुलिस ने बताया कि हिंसा में दो से तीन लोग घायल हुए हैं, लेकिन उनकी राजनीतिक संबद्धता का पता नहीं चल पाया है. सूत्रों के अनुसार, उदयपुर झड़प के बाद अगरतला, विशालगढ़ और कथलिया में माकपा के पार्टी कार्यालयों में भी तोड़फोड़ की गई और आग लगा दी गई. दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं के बीच सोमवार को पहले दौर की हिंसा के बाद झड़पें हुईं, जब त्रिपुरा के पूर्व मुख्यमंत्री माणिक सरकार को कथित तौर पर धनपुर जाने से रोका गया था.

पुलिस ने बताया कि उदयपुर के घायल बीजेपी कार्यकर्ता को गंभीर हालत में अगरतला के जीबी पंत अस्पताल में स्थानांतरित किया गया. उन्होंने बताया कि भीड़ को तितर-बितर करने और उपद्रव रोकने के लिए पुलिस की एक बड़ी टुकड़ी को तैनात करना पड़ा. अधिकारियों ने यह भी कहा कि अज्ञात उपद्रवियों के एक समूह ने माकपा के उदयपुर पार्टी कार्यालय में भी तोड़फोड़ की, जबकि पूर्व वाम मोर्चा मंत्री रतन भौमिक के एक वाहन को आग लगा दी गई. झड़प के तुरंत बाद कृषि मंत्री प्रणजीत सिंह रॉय मौके पर पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया.

मीडिया से बात करते हुए मंत्री ने कहा कि माकपा की युवा शाखा ने पुलिस से पूर्व अनुमति लिए बिना एक रैली निकाली थी. उन्होंने कहा कि सरकार हिंसा में शामिल लोगों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेगी. इस बीच, केंद्रीय राज्य मंत्री प्रतिमा भौमिक ने सोमवार की हिंसा के विरोध में सोनामुरा उपमंडल के धनपुर में एक विरोध मार्च का नेतृत्व किया. बाद में शाम को बीजेपी सदर जिला इकाई ने राजधानी अगरतला में एक विरोध रैली भी की.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *