असम में ब्रह्मपुत्र नदी में बुधवार को भीषण नाव दुर्घटना हुई है। यहां यात्रियों से भरी दो नावों में टक्कर हो गई। घटना जोरहाट जिले के नीमतीघाट की है। बताया जा रहा है कि नावों में करीब 120 लोग सवार थे। इनमें से कई अब भी लापता है। उन्हें बचाने के हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं। राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन बल के डीजी सत्या एन प्रधान ने इसकी पुष्टि की है।

इससे पहले जोरहाट के अतिरिक्त डीसी दामोदर बर्मन ने दावा किया था कि दुर्घटना में शामिल दोनों नाव में लगभग 50 लोग सवार थे, जिनमें से 40 लोगों को बचा लिया गया है। बाकी लोगों की तलाश जारी है। एक बोट माजुली से नीमतीघाट की ओर जा रही थी, जबकि दूसरी इसकी विपरीत दिशा में जा रही थी। मौके पर राहत और बचाव का काम तेजी से चल रहा है।

मुख्यमंत्री सरमा ने नाव दुर्घटना पर दुख जताते हुए माजुली और जोरहाट जिला प्रशासन को एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की मदद से बचाव अभियान चलाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने मंत्री बिमल बोरा को जल्द से जल्द माजुली पहुंचकर स्थिति का जायजा लेने के लिए कहा है। सरमा ने अपने प्रधान सचिव समीर सिन्हा को भी लगातार घटनाक्रम पर नजर बनाए रखने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री गुरुवार को माजुली का दौरा करेंगे। इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी घटना पर दुख व्यक्त किया है।
शाह ने मुख्यमंत्री सरमा को किया फोन

सीएम सरमा ने बताया कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने फोन कर जोरहाट के नीमतीघाट में नाव दुर्घटना के बारे में पूछा और अब तक बचाए गए लोगों की स्थिति के बारे में अपडेट लिया। उन्होंने ने कहा कि केंद्र सरकार हर संभव मदद देने के लिए तैयार है।
पीएम मोदी ने भी जताया दुख
इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी नाव हादसे में लापता लोगों को लेकर चिंता व्यक्त की। उन्होंने कहा कि घटना की खबर से आहत हूं। राहत और बचाव कार्यों को तेज गति से आगे बढ़ाया जाए। यात्रियों को बचाने के हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *