मायावती ने अपनी पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयप्रकाश पर गंभीर आरोप लगाए हैं, उन्होंने कहा कि जयप्रकाश उन्हें सीएम बनाने के नाम पर लोगों से चंदा वसूल रहे हैं। बसपा सुप्रीमो ने लोगों को इससे सावधान रहने को कहा है।

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावका समय जैसे-जैसे नजदीक आ रहा है नेता और राजनीतिक दल अपनी तैयारियों को और तेज करने में लगे हैं, बसपा सुप्रीमो मायावती भी मिशन 2022 के लिए जी जान से लगी हुई हैं, लेकिन उनकी पार्टी के पूर्व नेता उन्हें बदनाम करने की कोशिश में लगे हुए हैं। इसकी जानकारी आज खुद बीएसपी सुप्रीमो  ने दी है। मायावती  ने अपनी पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयप्रकाश पर गंभीर आरोप लगाए हैं, उन्होंने कहा कि जयप्रकाश उन्हें सीएम बनाने के नाम पर लोगों से चंदा वसूल रहे हैं, मायावती ने इसकी कड़ी निंदा करते हुए अपने लोगों को आगाह किया है कि ऐसे लोगों से सावधान रहें।

कौन हैं जयप्रकाश सिंह

1985 में जिला गौतमबुद्धनगर में जन्मे जयप्रकाश सिंह के पिताअध्यापक और भाई सरकारी वकील हैं। एलएलएम की डिग्री धारक जयप्रकाश ने वर्ष 2009 में घर परिवार छोड़कर खुद को बहुजन आंदोलन में समर्पित कर दिया था और दिल्ली में कमरा लेकर रहने लगे।

मायावती के भाई व पूर्व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष आनंद कुमार के करीबी रहे जयप्रकाश उस वक्त सुर्खियों में आए थे जब राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में मायावती ने उन्हें राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के साथ नेशनल कोआर्डिनेटर पद की जिम्मेदारी भी दी थी, लेकिन ये जिम्मेदारी वह ज्यादा दिन तक संभाल नहीं सके और कुछ ही महीने में उन्हें मायावती ने पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया था।

राहुल गांधी पर टिप्पणी के बाद हुए थे बाहर बता दें वर्ष 2018 में बीएसपी में बड़ी जिम्मेदारी मिलने के चंद दिनों बाद ही जयप्रकाश सिंह ने उस वक्त कांग्रेस के अध्यक्ष रहे राहुल गांधी  पर विवादित बयान  दिया था। जिस पर कांग्रेस नेताओंने कड़ा विरोध जताया था। इसके बाद मायावती ने जयप्रकाश के बयान से न केवल पल्ला झाड़ा लिया था बल्कि उनकी संगठन के अहम दायित्वों से छुट्टी कर दी थी। इसके साथ ही जयप्रकाश अपने पहले सम्मान समारोह में हीरो से जीरो हो गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *