मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले में बदरवास क्षेत्र के ग्राम बारई में राशन की दुकान पर ग्रामीणों ने धावा बोल दिया और 150 क्विंटल सरकारी गेहूं लूट लिया। बताया जा रहा है कि इस घटना को फूड इंस्पेक्टर के सामने अंजाम दिया गया। हालांकि, फूड इंस्पेक्टर का दावा है कि दुकान में सिर्फ 70 क्विंटल गेहूं था। जांच में सामने आया है कि राशन न मिलने से ग्रामीण परेशान थे। घटना से एक दिन पहले उन्होंने राशन की दुकान के सेल्समैन राहुल गोस्वामी से गेहूं नहीं बांटने की शिकायत की थी। सेल्समैन ने गांव के धर्मेंद्र यादव और शंभू यादव पर गाली-गलौज करने व पीओएस मशीन फेंकने का आरोप भी लगाया। इस मामले में जिला फूड ऑफिसर विपिन पटेल ने जांच का आदेश दिया है।

यह है पूरा मामला
जानकारी के मुताबिक, ग्राम बारई में मौजूद राशन की दुकान का सेल्समैन राहुल गेहूं का वितरण नहीं कर रहा था। ग्रामीणों ने 29 जून को इसकी जानकारी जिला फूड अफसर विपिन पटेल को दी थी। उन्होंने 30 जून को फूड इंस्पेक्टर द्वारा अनाज बंटवाने का आश्वासन दिया था। ऐसे में बुधवार दोपहर पटवारी नीरज दांगी और फूड इंस्पेक्टर नरेश मांझी गांव पहुंचे। उन्होंने दुकान खुलवाकर ग्रामीणों को गेहूं बांटना शुरू करवाया। जब करीब 10 लोगों को गेहूं बांटा जा चुका था, तब भीड़ बेकाबू होने लगी। इसके बाद कुछ लोग गेहूं की बोरी उठाकर भाग गए। 

सेल्समैन पर गेहूं लुटवाने का आरोप
जांच के दौरान गांव के कुछ लोगों ने बताया कि सेल्समैन ने गेहूं वितरण में गड़बड़ी कर रखी थी। अगर अधिकारियों के सामने शांति से गेहूं वितरण होता तो गड़बड़ी सामने आ जाती और वह हिसाब नहीं दे पाता। ऐसे में जानबूझकर गेहूं लुटवाया गया। इस मामले में जिला फूड ऑफिसर विपिन पटेल का कहना है कि गेहूं लूटा गया या कुछ और बात है, यह तो जांच के बाद ही सामने आएगा। फूड इंस्पेक्टर नरेश मांझी का दावा है कि दुकान में 150 नहीं, सिर्फ 70 क्विंटल गेहूं था। 

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *