नाराजगी की खबरों के बीच कांग्रेस नेता सचिन पायलट शुक्रवार को दिल्ली पहुंचे हैं। वह रविवार तक यहां रहेंगे। राजधानी पहुंचने पर जब पत्रकारों ने उनके प्लान के बारे में पूछा तो उन्होंने कुछ भी कहने से इनकार किया। लेकिन सूत्रों के मुताबिक, पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी ने उन्हें दिल्ली बुलाया है। बताया जा रहा है कि पार्टी पिछले साल वाली स्थिति और किरकिरी से बचने के लिए एक्टिव हो गई है। 

पिछले साल जुलाई में भी सचिन पायलट ने राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार के खिलाफ बागी रुख अख्तियार कर लिया था। वह अपने समर्थक विधायकों के साथ दिल्ली पहुंच गए थे और बीजेपी में शामिल होने की खबरों के बीच ऐन वक्त पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी और पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने उन्हें मना लिया था। हालांकि, एक बार फिर उनके खेमे ने यह कहना शुरू कर दिया है कि पायलट से किए गए वादों को अभी तक पूरा नहीं किया गया है। उनके कई समर्थक विधायकों ने खुलकर नाराजगी जाहिर की है।

पायलट के करीबी करीब आधा दर्जन विधायकों ने गुरुवार को जयपुर के सिविल लाइन्स स्थित उनके निवास पर उनसे मुलाकात भी की। इस बीच पायलट खेमे के माने जाने वाले एक और विधायक पी आर मीणा ने शुक्रवार को कहा कि पार्टी आलाकमान को पायलट द्वारा उठाए गए मुद्दों का समाधान करना चाहिए। मीणा ने दौसा में संवाददाताओं से कहा, ” मैं पायलट के साथ था, पायलट के साथ हूं और उनके साथ ही रहूंगा।” उन्होंने कहा कि राज्य में कैबिनेट विस्तार होना चाहिए क्योंकि अनेक विधायक इंतजार कर रहे हैं। मीणा के अनुसार, ”पार्टी आलाकमान को इस बारे में जल्द फैसला करना चाहिए क्योंकि हर कोई इंतजार कर रहा है।”
     
इस बीच पायलट के एक और करीबी विधायक हेमाराम चौधरी ने शुक्रवार को यहां पायलट से मुलाकात की। गुढ़ा मालानी से विधायक चौधरी ने विधानसभा की सदस्यता से अपना इस्तीफा पिछले महीने विधानसभा अध्यक्ष को भेजा था। पायलट से मुलाकात के बाद चौधरी ने संवाददाताओं से कहा कि उन्होंने अपने दिल की आवाज सुनते हुए इस्तीफा दिया। उन्होंने कहा, ”लोग मुझसे इस्तीफा वापस लेने की अपील कर सकते हैं। लेकिन इस बारे में फैसला मुझे करना है।” चौधरी ने 18 मई को अपना इस्तीफा ईमेल किया था और उसके बाद पहली बार जयपुर में थे।  

बीजेपी में जाने की अटकलों को किया खारिज
पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने भाजपा नेता रीता बहुगुणा जोशी पर तंज कसते हुए शुक्रवार को कहा कि हो सकता है कि भाजपा नेत्री ने सचिन तेंदुलकर से बात की हो। पायलट ने कहा कि बहुगुणा में उनसे बात करने की हिम्मत नहीं है। भाजपा नेता बहुगुणा ने पिछले दिनों कहा था कि उन्होंने कथित तौर पर नाराज चल रहे कांग्रेस नेता से भाजपा में शामिल होने के बारे में बात की थी। इस बारे में यहां जब सचिन पायलट से पूछा गया तो उन्होंने तल्ख लहजे में कहा, ‘ रीता बहुगुणा जोशी ने जो कहा कि सचिन से बात की है, तो हो सकता है कि उन्होंने सचिन तेंदुलकर से बात की हो। मेरे से बात करने की हिम्मत नहीं है।’

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *