आज घरेलू बाजार में लगातार तीसरे दिन सोने की वायदा कीमत में गिरावट आई। एमसीएक्स पर सोना वायदा 49,159 रुपये प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गया। जबकि चांदी वायदा 0.2 फीसदी बढ़कर 71,370 रुपये प्रति किलोग्राम पर पहुंच गई। पिछले कारोबारी सत्र में चांदी 0.8 फीसदी गिरी थी। पिछले सप्ताह पांच माह के उच्च स्तर, 49,700 रुपये प्रति 10 ग्राम पर पहुंचने के बाद सोने में गिरावट आई है। पीली धातु पिछले साल के उच्चतम स्तर (56200 रुपये प्रति 10 ग्राम) से करीब सात हजार रुपये नीचे है। मार्च में सोने की कीमतें लगभग 44,000 रुपये प्रति 10 ग्राम के निचले स्तर पर पहुंच गई थीं। 

वैश्विक बाजार में इतनी है कीमत
अंतरराष्ट्रीय बाजारों में हाजिर सोना 0.1 फीसदी ऊपर 1,893.78 डॉलर प्रति औंस पर था। अन्य कीमती धातुओं में चांदी 27.63 डॉलर प्रति औंस पर थी और प्लैटिनम 0.1 फीसदी गिरकर 1,160.81 डॉलर पर रहा। बीते वित्त वर्ष 2020-21 में भारत का सोने का आयात 22.58 फीसदी बढ़कर 34.6 अरब डॉलर या 2.54 लाख करोड़ रुपये पर पहुंच गया। 

सरकार ने 15 जून तक दी गोल्ड ज्वैलरी की हॉलमार्किंग में छूट
केंद्र ने स्वर्ण आभूषण और कलाकृतियों के लिए अनिवार्य रूप से हॉलमार्किंग व्यवस्था लागू करने की समयसीमा एक पखवाड़ा बढ़ाकर 15 जून तक कर दी। उपभोक्ता मामलों के मंत्री पीयूष गोयल की अध्यक्षता में हुई बैठक में इस आशय का निर्णय किया गया। उल्लेखनीय है कि नवंबर 2019 में सरकार ने स्वर्ण आभूषण और कलाकृतियों पर ‘हॉलमार्किंग’ 15 जनवरी, 2021 से अनिवार्य किए जाने की घोषणा की थी। हालांकि जौहरियों की महामारी के कारण समयसीमा बढ़ाए जाने की मांग के बाद इसे चार महीने आगे खिसकाकर एक जून कर दिया गया था। गोल्ड हॉलमार्किंग कीमती धातु की शुद्धता को प्रमाणित करता है और वर्तमान में यह स्वैच्छिक है। बयान के अनुसार स्वर्ण आभूषण पर हॉलमार्किंग व्यवस्था 15 जून से शुरू होगी। पहले यह एक जून, 2021 से क्रियान्वित होनी थी।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *