नोएडा:सेक्टर 58 कोतवाली पुलिस ने लोगों से भारतीय मनोरंजन और चिल्ड्रन बैंक (बच्चों के खेलने वाले नकली नोटों) के नोटों से ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है। पुलिस ने सोमवार को सेक्टर 62 के पास से दो आरोपियों को गिरफ्तार करते हुए उनके कब्जे से भारतीय मनोरंजन बैंक के 2 हजार के 19, चिल्ड्रन बैंक लेबल के 500 रुपये के 4 नकली नोट, 500 रुपये का एक असली नोट और एक अवैध चाकू बरामद किया है। पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।आरोपी ऐसे करते थे खेलसेक्टर—58 कोतवाली प्रभारी अनिल का कहना है कि ये घर जा रहे लोगों को टारगेट किया करते थे। सेक्टर—62 स्थित ऑटो और बस स्टैंड के पास सक्रिय रहते थे। आरोपी उन्हें गाड़ी में बैठाते और आगे चेकिंग की बात कहकर उनसे पैसा ले लिया करते थे। एक आरोपी लोगों को फंसाता और दूसरा चेकिंग के नाम पर भारतीय मनोरंजन और चिल्ड्रन बैंक की गड्डी के ऊपर एक असली नोट लगाकर जमा करता था। जिससे देखते हुए गाड़ी में बैठा व्यक्ति पैसा उन्हें दे देता था। बाद में बच्चों के खेलने वालों के नोटों की गड्डी थमाकर फरार हो जाते थे।

चिल्ड्रन बैंक के नोटों के साथ ठगी

जानकारी के अनुसार, पुलिस को सूचना मिली थी कि भारतीय मनोरंजन और चिल्ड्रन बैंक के नोटों के साथ ठगी की जा रही है। सूचना मिलने पर पुलिस ने पूरे मामले की जांच शुरू की तो एक्सपो सेंटर की बाउंड्री के पास सेक्टर-62 से दोनों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने पकड़े गए आरोपियों की पहचान खुर्जा के नई बस्ती गांव निवासी नूर मौहम्मद और गाजियाबाद के टीला मोड़ निवासी उस्मान के रूप में की हैं।

आरोपी ऐसे करते थे खेल
सेक्टर—58 कोतवाली प्रभारी अनिल का कहना है कि ये घर जा रहे लोगों को टारगेट किया करते थे। सेक्टर—62 स्थित ऑटो और बस स्टैंड के पास सक्रिय रहते थे। आरोपी उन्हें गाड़ी में बैठाते और आगे चेकिंग की बात कहकर उनसे पैसा ले लिया करते थे। एक आरोपी लोगों को फंसाता और दूसरा चेकिंग के नाम पर भारतीय मनोरंजन और चिल्ड्रन बैंक की गड्डी के ऊपर एक असली नोट लगाकर जमा करता था। जिससे देखते हुए गाड़ी में बैठा व्यक्ति पैसा उन्हें दे देता था। बाद में बच्चों के खेलने वालों के नोटों की गड्डी थमाकर फरार हो जाते थे।आरोपी ऐसे करते थे खेलसेक्टर—58 कोतवाली प्रभारी अनिल का कहना है कि ये घर जा रहे लोगों को टारगेट किया करते थे। सेक्टर—62 स्थित ऑटो और बस स्टैंड के पास सक्रिय रहते थे। आरोपी उन्हें गाड़ी में बैठाते और आगे चेकिंग की बात कहकर उनसे पैसा ले लिया करते थे। एक आरोपी लोगों को फंसाता और दूसरा चेकिंग के नाम पर भारतीय मनोरंजन और चिल्ड्रन बैंक की गड्डी के ऊपर एक असली नोट लगाकर जमा करता था। जिससे देखते हुए गाड़ी में बैठा व्यक्ति पैसा उन्हें दे देता था। बाद में बच्चों के खेलने वालों के नोटों की गड्डी थमाकर फरार हो जाते थे।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *