विधायक देवेंद्र सिंह बबली के घर का घेराव करने के लिए जाते समय गिरफ्तार किए गए किसान नेता रवि आजाद व विकास सीसर को जमानत मिलने के बाद रविवार रात करीब 12 बजकर 30 मिनट पर जेल से बाहर निकाला गया। जेल से बाहर आते ही दोनों किसान नेता सीधे टोहाना के सदर थाने में चल रहे धरने पर पहुंच गए। यहां वह राकेश टिकैत व अन्य किसान नेताओं से मिले और उस दिन के घटनाक्रम को लेकर पूरी चर्चा की।

इस बारे में भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि दोनों किसान नेताओं को जमानत मिल गई है और वे धरना स्थल पर आ गए हैं। इसके बाद सोमवार को निर्धारित हरियाणा में थानों के घेराव के कार्यक्रम को स्थगित कर दिया गया है।

टोहाना के विधायक देवेंद्र सिंह बबली व किसानों के बीच 1 जून को हुए टकराव के बाद विधायक के निजी सचिव व चालक के बयान के आधार पर किसानों के खिलाफ धारा 307 सहित विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया था। इसके बाद किसानों ने लघु सचिवालय में पहुंचकर किसान नेता गुरनाम सिंह के नेतृत्व में प्रदर्शन किया था तथा विधायक को माफी मांगने के लिए 6 जून तक का समय दिया था। इस दौरान कुछ किसान विधायक के घर का घेराव करने के लिए गांव बिढाईखेड़ा जाने लगे तो पुलिस ने रोक लिया।

इस दौरान 27 लोगों ने गिरफ्तारियां दी थी, जिनमें 25 लोगों को पुलिस ने अगले दिन रिहा कर दिया था। मगर विकास सीसर व रवि आजाद को पुलिस ने गिरफ्तार करके अदालत में पेश किया, जहां से उन्हें हिसार जेल भेज दिया गया था। इन लोगों को जेल भेजने के बाद पुलिस ने अन्य की गिरफ्तारी के लिए दबिश दी थी।

सरकार व विधायक के खिलाफ किसान नेता राकेश टिकैत के नेतृत्व में सदर थाने में गिरफ्तारियां देने पहुंचे तो देर रात्रि तक करीब 7 बजे विधायक देवेंद्र सिंह बबली ने किसानों से माफी मांगते हुए अपना 33 सेकेंड का वीडियो जारी किया और विवाद सुलझ गया था। लेकिन सदर थाने में दर्ज 103 नंबर एफआईआर में गिरफ्तार किए गए किसान नेता रवि आजाद व विकास की रिहाई को लेकर किसानों ने 5 जून देर रात्रि से थाने में धरना शुरू कर दिया था।

इस बारे में भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष जोगिंदर घासीराम नैन ने कहा कि दोनों किसान नेता विकास सीसर व रवि आजाद की जमानत के बाद प्रदेश भर के थानों का घेराव स्थगित किया गया है। सिर्फ टोहाना के सदर थाने का ही घेराव जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि जब तक जेल में बंद उनका एक साथी मक्खन सिंह रिहा नहीं हो जाता तब तक यह धरना जारी रहेगा।  

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *