नवी मुंबई में एक शख्स ने अपनी गर्लफ्रेंड को केटामाइन का इंजेक्शन लगाकर जान से मार डाला। आरोपी ने बताया कि युवती किसी गंभीर बीमारी से पीड़ित थी। ऐसे में वह उससे शादी नहीं करना चाहता था और बीमारी का इलाज करने के बहाने उसने इस खौफनाक वारदात को अंजाम दे दिया। 
29 मई को मिला था युवती का शव
पनवेल पुलिस थाने के अधिकारियों के मुताबिक, 29 मई को पनवेल के उस इलाके में एक युवती का शव बरामद हुआ, जहां हवाई अड्डा बनना है। पुलिस ने शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया और मामले की जांच शुरू कर दी। 
ऐसे हुई युवती की शिनाख्त
बताया जा रहा है कि शुरुआत में युवती की पहचान नहीं हो सकी, क्योंकि शव के पास किसी भी तरह की आईडी या कागजात नहीं मिला। हालांकि, 30 मई को एक ऑटो ड्राइवर को एक प्लास्टिक बैग मिला, जिसमें एक आधार कार्ड, एक पर्स और महिला के कुछ कपड़े थे। कुछ समय बाद एक शख्स पुलिस थाने पहुंचा और उसने शव की शिनाख्त की। उसने खुद को युवती का भाई रमेश थोम्बरे बताया। इसके अलावा उसने ऑटो ड्राइवर को मिले सामान की पहचान की और उन्हें युवती का बताया। 
ऐसे उठा राज का पर्दाफाश
थोम्बरे ने पुलिस को बताया कि पनवेल के एक अस्पताल में काम करने वाले चंद्रकांत गायकर से उसकी बहन का अफेयर था। थोम्बरे ने दावा किया कि उसने अपनी बहन को गायकर के साथ बहस करते हुए सुना था। इसके बाद पुलिस ने शक के आधार पर आरोपी को पकड़ लिया। पूछताछ के दौरान उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया।
इस वजह से की गई युवती की हत्या
आरोपी ने बताया कि करीब 6 महीने से उसका युवती के साथ अफेयर चल रहा था। युवती किसी गंभीर बीमारी से जूझ रही थी और कथित तौर पर उसे शादी करने के लिए धमकाती थी। इससे आरोपी नाराज हो गया और उसे रास्ते से हटाने की योजना बनाने लगा। गायकर ने बताया कि उसने केटामाइन का इंजेक्शन खरीदा और इलाज करने के बहाने युवती को लगा दिया। हत्या के बाद उसने राज छिपाने के लिए युवती का मोबाइल और पर्स नष्ट कर दिया। पुलिस ने गायकर को अदालत में पेश किया, जहां से उसे 6 जून तक रिमांड पर भेज दिया गया।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *