यूपी गेट पर कृषि कानून के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसान काला दिवस मना रहे हैं। आंदोलन के छह माह पूरे होने पर सरकार की तरफ से कोई भी निष्कर्ष ना निकलने पर किसानों में गुस्सा भरा हुआ है। बुधवार को यूपी गेट पर आंदोलनकारी किसान  काला दिवस मनाने के साथ-साथ केंद्र सरकार का पुतला जलाने की तैयारी कर रहे थे। इसी बीच पुलिस अधिकारियों ने किसानों से पुतला छीनने का प्रयास किया था, इसी बीच किसान और पुलिस अधिकारियों के बीच तीखी नोकझोंक भी हुई थी।

दिल्ली में कई जगहों पर पुलिस कर रही वाहनों की चेकिंग
दिल्ली में कृषि कानूनों के विरोध में किसानों द्वारा आज मनाए जा रहे काले दिवस को देखते हुए दिल्ली के कई जगहों में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है। ग्रेटर कैलाश के एसएचओ ने बताया, ‘हम सभी गाड़ियों की जांच कर रहे हैं, चाहे वो परमिट गाड़ी ही हो क्योंकि कहीं उस गाड़ी में कोई किसान न जा रहा हो।’

टीकरी बॉर्डर पर भी लगाए काले झंडे
टीकरी बॉर्डर पर भी प्रदर्शनरत किसानों ने काले झंडे लगाए  हैं। किसानोंं ने आंदोलन स्थल पर तिरंगा किसान मोर्चा का झंडा और काला झंडा तीनों लगा रखा है।

अमृतसर के छब्बा गांव में लोगों ने घरों में लगाए काले झंडे
अमृतसर के छब्बा गांव में लोगों ने अपने घरों पर कृषि कानून के विरोध में काले झंडे लगाए। यह झंडे आंदोलनरत किसानों के आह्वान पर काला दिवस मनाने के लिए लगाए गए हैं।

हम कोविड प्रोटोकॉल के तहत ही कर रहे विरोध-प्रदर्शन: राकेश टिकैत
भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने बताया कि हम काले झंडे के साथ ही तिरंगा भी लेकर चल रहे हैं। छह महीने हो गए हैं लेकिन सरकार हमारी बात नहीं सुन रही है। इसलिए किसान काले झंडे रखने को मजबूर हुए हैं। हम सबकुछ शांतिपूर्वक करेंगे। हम कोविड के नियमों का पालन कर रहे हैं। यहां कोई नहीं आ रहा है। लोग जहां हैं वहीं झंगे लगा रहे हैं।

सिंघु-टीकरी बॉर्डर समेत तमाम सीमाओं पर बढ़ाई सुरक्षा
किसान आंदोलन के छह महीने आज पूरे हो रहे हैं, इसे देखते हुए सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस ने सतर्कता बढ़ा दी है। सिंघु, टीकरी, गाजीपुर बॉर्डर समेत तमाम धरनास्थलों पर पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी है।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *