बंगाल की खाड़ी में बने चक्रवाती तूफान ‘यास’ की लैंडफाल की प्रक्रिया बुधवार सुबह से शुरू हो गई है। ओडिशा में धामरा के उत्तर व बालेश्वर के दक्षिण में तूफान ‘यास’ की लैंडफाल की प्रक्रिया जारी है। यह प्रक्रिया करीब तीन-चार घंटे तक चलेगी। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के महानिदेशक डा. मृत्युंजय महापात्र ने यह जानकारी दी।

लैंडफाल वाले इलाके में 130 से 140 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से चल रही हवा

उन्होंने कहा कि लैंडफाल वाले इलाके में 130 से 140 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से तेज हवा चल रही है। 150 किमी प्रति घंटे के रफ्तार से झोंका आ सकता है।

उधर, विशेष राहत कमिशनर प्रदीप्त जेना ने बताया कि लगभग सुबह 9 बजे के आसपास ‘यास’ की लैंडफाल की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। उम्मीद की जा रही है कि दोपहर 01 बजे तक यह प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

निलगिरी व बाहानगा में लैंडफाल की प्रक्रिया जारी

आगे जोड़ते हुए उन्होंने कहा कि निलगिरी व बाहानगा में लैंडफाल की प्रक्रिया जारी है। इसके बाद तूफान मयुरभंज जिले में नुकसान करेगा। वहां 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चल सकती है।

पश्चिम बंगाल में रिकॉर्ड की गई भारी बारिश

उन्होंने बताया कि तूफान के कारण राज्य में भारी बारिश रिकॉर्ड की गयी है। पिछले 24 घंटे में मयुरभंज जिले के कुसुमी में सर्वाधिक 303 मिमी बारिश रिकार्ड की गयी।

मौसम विभाग द्वारा यह जानकारी भी दी गई है कि चक्रवात ‘यास’ आज दोपहर तक पारादीप और सागर द्वीप समूह के बीच उत्तर ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटों को पार कर सकता है। इस दौरान हवा की गति 130-140 किमी प्रति घंटे से 155 किमी प्रति घंटा बताई गई है।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *