कोरोना की दूसरी लहर से पूरे देश में त्राहि-त्राहि मची हुई है। इस बीच महामारी की तीसरी लहर भी जल्द आने की आशंका जताई जा रही है। कहा जा रहा है कि इस लहर का सबसे ज्यादा असर बच्चों पर पड़ेगा। उधर, राजस्थान के दो जिलों में 600 से ज्यादा बच्चे बीमार हो गए हैं। इसके चलते राज्य में कोरोना की तीसरी लहर की दस्तक देने की अटकलें लगाई जा रही हैं। 


बच्चों में कोरोना जैसे लक्षण
जानकारी के मुताबिक, राजस्थान के दौसा और डूंगरपुर जिले में 600 से ज्यादा बच्चे बीमार हैं। उनमें कोरोना जैसे लक्षण नजर आए हैं। यह जानकारी मिलते ही राजस्थान में हाहाकार मच गया। अनुमान लगाया जा रहा है कि राज्य में कोरोना की तीसरी लहर ने दस्तक दे दी है। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग की टीम अलर्ट हो गई है। 


पिता के निधन के बाद दो बच्चियां संक्रमित
बताया जा रहा है कि दौसा में सिकराय उपखंड के एक गांव की दो बच्चियां कोरोना जैसे लक्षणों से संक्रमित हैं। इन बच्चियों के पिता का निधन कोरोना संक्रमण के चलते हुआ था। माना जा रहा है कि पिता के बाद ये दोनों बच्चियां महामारी की चपेट में आ गईं। वहीं, दौसा में दो साल का एक बच्चा भी कोरोना संक्रमित मिला है। 


ऐसा है दौसा-डूंगरपुर का हाल
स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के मुताबिक, सिर्फ दौसा में एक मई से 21 मई के तक 18 साल से कम उम्र के 341 बच्चे कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। उधर, डूंगरपुर में भी बच्चों के कोरोना संक्रमित होने के मामले काफी तेजी से बढ़े हैं। डूंगरपुर में 12 मई से 22 मई तक 255 बच्चे संक्रमित हो चुके हैं।


अभिभावकों की वजह से चपेट में आ रहे बच्चे
स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि बच्चे अपने माता-पिता की वजह से संक्रमण की चपेट में आ रहे हैं। अभी तक ऐसे तमाम मामले सामने आए हैं, जिनमें वही बच्चे संक्रमित हुए, जिनके अभिभावक महामारी की चपेट में आ चुके थे। हालांकि, एक अन्य अधिकारी का कहना है कि पिछले 10 दिन में 250 से ज्यादा बच्चे संक्रमित हो चुके हैं। कोरोना ऐसी बीमारी है, जिसमें कब किसे क्या हो जाए, कुछ कहा नहीं जा सकता

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *