व्यायाम करना सेहत के लिए अच्छा होता है. व्यायाम आपको चुस्त-दुरुस्त रखता है. एक्सरसाइज करने से आप कई बीमारियों को रोकने या नियंत्रित करने में मदद पाएंगे. तैराकी, दौड़ना, जॉगिंग, चलना और डांस करना सहित कई प्रकार की शारीरिक गतिविधियां हैं. रोज की जाने वाली फिजिकल एक्टिविटी सभी बीमारियों को दूर रखती हैं. यह एंडोर्फिन रिलीज करने में मदद करती है जो आपको खुश और एक्टिव बनाता है.

बनाना चाहिए सटीक शेड्यूल

आजकल की भागदौड़ की जिदंगी में सभी के पास समय का अभाव है.हम एक्सरसाइज शुरू करना चाहते हैं तो ये समस्य़ा आती है कि कब करें सुबह या शाम. एक्सरसाइज करने का कभी भी कोई सही समय नहीं होता, लेकिन इसके लिए सटीक शेड्यूल बनाया जाए तो यह हमें सेहतमंद रखने में मदद करता है.सुबह जल्दी उठने वालों के लिए सुबह, तो अन्य लोगों के लिए शाम और रात का वक्त एक्सरसाइज के लिए सही रहता है. अगर आप पसीना बहाने की प्लानिंग कर रहे हैं तो आपको बेहतर परिणाम पाने के लिए अपने वर्कआउट को कुछ इस तरह से प्लान करना चाहिए.

मॉर्निंग वर्कआउट

अगर आप मार्निग में वर्कआउट करना चाहते हैं तो कार्डियो परफेक्ट है. जब आपका शरीर वर्कआउट करने के बाद एंडोर्फिन (Endorphin) रिलीज करता है, तो आप दिन के लिए पूरी तरह से तैयार होते हैं और अपने दिन की शुरुआत फ्रेशनेस के साथ करते हैं. इससे आप एनर्जेटिक रहते हैं.आपके पास अपना पसंदीदा खाना पकाने, खाने, आराम करने, सोशल होने और पूरे दिन भर आराम और अन्य काम करने के लिए टाइम रहता है. सुबह एक्सरसाइज करना, आपके वजन को संतुलित रखने के साथ ही पाचन को भी दुरुस्त रखता है. इस दौरान आपके शरीर को एक्टिव रहने के लिए सभी जरूरी पोषक तत्व भी मिलते हैं.

शाम का वर्कआउट

जो लोग सुबह एक्सरसाइज नहीं कर सकते हैं वो

शाम को कर सकते हैं. शाम को वर्कआउट करना भी सुबह की तरह अच्छा ही है. शाम का Workout आमतौर पर उन लोगों के लिए सबसे अच्छा होता है जो कामकाजी होते हैं. देर रात तक ऑफिस के काम में जुटे रहते हैं और सुबह कुछ अधिक नींद लेना पसंद करते हैं. इवनिंग वर्कआउट आपके शरीर को ठंडक देता है और आपको अच्छी नींद आती है. Evening वर्कआउट के लिए अलग से वार्म-अप होने की जरूरत नहीं होती है, क्योंकि आपका शरीर पहले से ही मूवमेंट में आने के साथ ही एक्टिव हो चुका होता है.

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *