पटना के निजी अस्पताल के आईसीयू में कोरोना संक्रमित महिला से कथित तौर पर गैंगरेप के बाद मौत हो गई। 19 मई को इलाज के दौरान गैंगरेप की शिकार हुई महिला ने दम तोड़ दिया। अस्पताल के तीन कर्मचारी पर गैंगरेप करने का आरोप है। घटना के बाद शहर में बवाल मच गया। बड़ी संख्या में लोग अस्पताल के बाहर विरोध प्रदर्शन करने सड़क पर उतरे। सैकड़ों की तादाद में लोगों ने हाथों में कागज पर लिखे स्टॉप रेप कल्चर, नो रेप जैसे पोस्टर लेकर प्रदर्शन किया और अस्पताल प्रबंधन पर कड़ी कार्रवाई की मांग की। 

महिला की बेटी ने सोशल मीडिया पर डाला था वीडियो
दरअसल, पटना के पारस अस्पताल में कोरोना से जंग लड़ रही 45 वर्षीय महिला को भर्ती कराया गया था। गंभीर हालत में उसका इलाज आईसीयू में चल रहा था। महिला 6 मई को कोरोना पॉजिटिव हुई थी। स्थिति बिगड़ने पर उसे पारस अस्पताल में भर्ती कराया गया। 16 मई की रात महिला से कथित गैंगरेप किया गया। मृतक महिला की बेटी ने दावा किया कि उसकी मां को 15 मई को यहां भर्ती कराया गया था। उसके अगले दिन वार्ड में तीन कर्मचारियों ने उसके साथ सामूहिक बलात्कार किया। जब आईसीयू में भर्ती मां से मिलने बेटी पहुंची तो पीड़िता ने लड़खड़ाती जबान से आपबीती सुनाई, जिसके बाद उसके होश उड़ गए। बेटी ने पीड़ित मां के बयान का वीडियो फेसबुक पर डाल दिया, इसके बाद अस्पताल प्रबंधन समेत पूरे शहर में खलबली मच गई।

आईसीयू में भर्ती 25 मरीजों के परिजन और स्टाफ से होगी पूछताछ
 हालांकि अभी तक किसी भी आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया गया है। पटना के शास्त्रीनगर थाने की पुलिस गुरुवार को पड़ताल के लिए अस्पताल पहुंची। पुलिस ने आईसीयू के बाहर लगे सीसीटीवी फुटेज को जब्त कर जांच शुरू कर दी है।  इस दौरान आईसीयू में 25 मरीज भर्ती थे, साथ ही 10 स्टाफ ड्यूटी पर तैनात थे। फिलहाल पुलिस सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही। शास्त्रीनगर थाना प्रभारी ने बताया कि मरीजों के परिजनों और अस्पताल के मौजूद कर्मचारियों से पूछताछ की जाएगी। दोषी पाए जाने पर आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। 

अस्पताल प्रबंधन ने आरोपों को नकारा
वहीं अस्पताल प्रबंधन इस तरह की वारदात को बेबुनियाद और झूठा करार दिया है। प्रबंधन का कहना है कि अस्पताल की छवि खराब करने की कोशिश की जा रही है।  अस्पताल में किसी मरीज के साथ ऐसी घिनौनी हरकत नहीं की जाती है। यह सब साजिश के तहत किया जा रहा है। 

परिजन को 54 लाख रुपये मिलेंगे- मंत्री
समाज कल्याण मंत्री मदन सहनी ने कहा कि पारस अस्पताल में कोरोना से मृतक महिला आंगनबाड़ी में सेविका थी। उस सेविका की बेटी ने अस्पताल में अपनी मां के साथ दुष्कर्म होने का आरोप लगाया। वहीं विभाग ने मृतक के परिजन को  4 लाख रुपये तुरूंत देने का आदेश जारी किया है। साथ ही विभाग ने केंद्र सरकार से 50 लाख की राशि दिलाने की सिफारिश की है। 

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *