अंतराष्ट्रीय क्रिकेटर भुवनेश्वर कुमार के पिता का गुरुवार को निधन हो गया। जानकारी के अनुसार भुवनेश्वर के 63 वर्षीय पिता कई माह से लीवर की गंभीर बीमारी से जूझ रहे थे। दिल्ली के एम्स व नोएडा समेत कई अस्पतालों में इलाज के बाद वह इन दिनों मेरठ के एक निजी अस्पताल में भर्ती हुए थे। हालांकि यहां भी चिकित्सकों ने उन्हें जवाब दे दिया। इसके बाद से भुवनेश्वर कुमार व उनका परिवार घर पर ही उनकी सेवा कर रहा था। 

बताया गया कि उन्होंने अपने गंगानगर सी- पॉकेट आवास पर अंतिम सांस ली। वहीं उनकी मौत से शोक की लहर दौड़ गई। उधर, परिवार में कोहरामच मच गया। खास बात यह है कि एक तरफ परिवार जहां घर में जश्न मनाने की तैयारी कर रहा था, वहीं पिता की मौत के बाद भुवनेश्वर के परिवार पर गम का पहाड़ टूट पड़ा है। 

सूत्रों के अनुसार लीवर में कैंसर की बीमारी से जूझ रहे उनके पिता किरनपाल सिंह की हालत गंभीर चल रही थी। डॉक्टरों के जवाब देने पर परिवार उन्हें गंगानगर स्थित अपने आवास पर ले आए थे।

पिछले कई महीनों से लीवर के कैंसर से जूझ रहे किरनपाल का उपचार दिल्ली के एम्स व नोएडा के एक अस्पताल में चल रहा था। इंग्लैंड के डॉक्टरों के निर्देशन में इलाज जारी रहा। गंभीर हालत में भी किरनपाल ने आईसीसी ‘प्लेयर ऑफ द मंथ’ के लिए भुवी को वोट देने की अपील की थी। भुवी सर्वाधिक वोट पाकर ‘प्लेयर ऑफ द मंथ’ चुने भी गए थे। इससे पिता बहुत खुश थे।

दिल्ली व नोएडा में उनकी कीमो थेरेपी पूरी हो गई थी। जिसके बाद वह खुद को ठीक महसूस कर रहे थे। लेकिन दो सप्ताह पहले उनकी हालत फिर खराब हो गई थी। उन्हें गंगानगर स्थित पास के ही अस्पताल में भर्ती कराया गया।

हालत स्थिर रहने के कुछ दिन बाद मुजफ्फरनगर क्षेत्र के मसूरी स्थित अस्पताल में भर्ती कराया गया।लीवर के कैंसर के कारण उन्हें पीलिया और अन्य कई बीमारी ने चपेट में ले लिया, जिसके बाद डॉक्टरों ने जवाब दे दिया था। अब भुवी और उनकी मां इंद्रेश देवी और बहन रेखा पिता की देखरेख कर रहीं थीं।
 

हालत स्थिर रहने के कुछ दिन बाद मुजफ्फरनगर क्षेत्र के मसूरी स्थित अस्पताल में भर्ती कराया गया।लीवर के कैंसर के कारण उन्हें पीलिया और अन्य कई बीमारी ने चपेट में ले लिया, जिसके बाद डॉक्टरों ने जवाब दे दिया था। अब भुवी और उनकी मां इंद्रेश देवी और बहन रेखा पिता की देखरेख कर रहीं थीं।
 

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed