यूनेस्कों ने प्रदेश के दो टूरिस्ट प्लेस को विश्व धरोहर की सूची में शामिल कर लिया है। मिली जानकारी के तहत केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय की संस्था, एएसआई ने यूनेस्को विश्व धरोहर की संभावित लिस्ट में शामिल करने के लिए नौ पर्यटन स्थलों का नाम भेजा था, जिनमें से छह जगहों को संभावित लिस्ट में शामिल कर लिया गया है। आपको बता दें कि इस लिस्ट में नर्मदा घाटी पर बना भेड़ाघाट-लम्हेटाघाट और सतपुड़ा टाइगर रिजर्व शामिल किया गया है। आपको बता दें कि जबलपुर का भेड़ाघाट सफेद संगमरमर की वादियों के बीच से बहती नमृदा की धारा के लिए पहले विश्व में मशहूर है

इसी के साथ प्राकृतिक सौंदर्य और बाघों को करीब से जानने और समझने के लिए सतपुड़ा टाइगर रिजर्व वर्ल्ड में मशहूर है। इसी के साथ दुनिया में मशहूर यह पर्यटन स्थल अब यूनेस्को की सूची में शामिल होने के बाद विश्व धरोहर में भी शामिल हो चुके हैं। आपको बता दें कि मध्य प्रदेश के अलावा महाराष्ट्र का मराठा सैन्य वास्तुकला, उत्तर प्रदेश के बनारस का गंगाघाट रिवरफ्रंट, अरुणाचल प्रदेश के टेल वाइल्डलाइफ सेंचुरी,वाराणसी का रिवरफ्रंट, जियोग्लिफ ऑफ कोंकण, तमिलनाडु स्थित कांचीपुरम के मंदिर, कर्नाटक का बेंकल महापाषाण स्थल और जम्मू की मुबारक मंडी को यूनेस्कों की लिस्ट में शामिल किया गया है।

प्रदेश के दो पर्यटनों स्थलों को यूनेस्कों की सूची में जगह मिल चुकी है और इसको लेकर केंद्रीय संस्कृति मंत्री प्रह्लाद पटेल ने ट्वीट कर खुशी जताई है। उन्होंने ख़ुशी जताते हुए कहा कि, ‘छह स्थलों को यूनेस्को की संभावित सूची में जगह मिलना देश के लिए बहुत ही गौरव की बात है।’ वही मध्य प्रदेश के दो पर्यटन स्थलों को यूनेस्को साइट में चुने जाने को लेकर उन्होंने खुशी जाहिर की और कहा कि, ‘ये मध्यप्रदेश वासियों के लिए बहुत ही खुशी और गौरव का क्षण है।’

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *