मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रत्येक जिले में बच्चों के इलाज के लिए पीडियाट्रिक आईसीयू (पीकू) की स्थापना का कार्य अभी से प्रारम्भ किया जाए। छोटे जिलों में 25  बेड और बड़े जिलों एवं मण्डल मुख्यालयों में 100 बेड तक का पीकू स्थापित किया जाए। 

साथ ही, पीडियाट्रीशियन की ट्रेनिंग का कार्य भी साथ ही साथ चलाया जाए। मुख्यमंत्री ने रविवार को कहा कि सभी कोविड अस्पतालों में पर्याप्त संख्या में मानव संसाधन की उपलब्धता के लिए भर्ती प्रक्रिया को तेज किया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी कोविड अस्पतालों में रेमडेसिविर एवं अन्य जीवन रक्षक दवाइयों की अनवरत उपलब्धता बनी रहे। इन दवाओं की सप्लाई चेन दुरुस्त रहे। प्रत्येक जिले में इंटीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कण्ट्रोल सेन्टर (आईसीसीसी) को प्रभावी ढंग से संचालित किया जाए। आईसीसीसी के लिए एक जिम्मेदार अधिकारी प्रभारी बनाया जाए। साथ ही, आईसीसीसी के स्तर पर संचालित पृथक-पृथक कार्यों की जिम्मेदारी अलग-अलग टीमों को दी जाए। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड संक्रमित व्यक्तियों की प्रभावी उपचार व्यवस्था सुनिश्चित करने के साथ ही, सभी जिला चिकित्सालयों में पोस्ट कोविड केयर सेण्टर स्थापित किये जाएं। आगामी दो दिनों में इन सेण्टरों को हर जिले में कार्यशील किया जाए। पोस्ट कोविड केयर सेन्टर में एक फिजिशियन, एक साइकेट्रिस्ट और एक फिजियोथेरेपिस्ट की तैनाती की जाए। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *