मुंबई: महाराष्ट्र में अब कोरोना की घटती संख्या राहत दे रही है लेकिन अब भी कुछ जिले हैं जहाँ संक्रमण थमा नहीं है और ना ही राहत दे रहा है बल्कि बढ़ता ही चला जा रहा है। आपको याद हो तो बीते साल जब कोरोना की पहली लहर आई थी तो बड़े-बूढ़े लोग कोरोना की चपेट में ज्यादा आए थे। ऐसे में अब दूसरी लहर सहित तीसरी लहर में छोटे बच्चे, गर्भवती महिलाओं और जवानों पर कोरोना संक्रमण का ज्यादा खतरा है। इस वजह से महाराष्ट्र सरकार बच्चों के लिए अलग से एक्शन प्लान तैयार कर रही है और इस प्लान के तहत अनेक ठिकानों में चाइल्ड कोविड सेंटर शुरू किया जाना है।

मिली जानकारी के तहत ऐसे केंद्रों में बच्चों के लिए बेड, वेंटिलेटर्स, आईसीयू सहित सारी सुविधाएं दी जाएंगी। अब हाल ही में मिली जानकारी के अनुसार इसी प्लान के तहत मुंबई में बच्चों के लिए 500 बेड्स का एक जंबो कोविड सेंटर शुरू किया जा रहा है। जी दरअसल विशेषज्ञों ने कोरोना की तीसरी लहर में सबसे ज्यादा खतरा बच्चों के लिए बताया है। इसी को ध्यान में रखते हुए मुंबई में 500 बेड्स का जंबो कोविड केंद्र तैयार किया जा रहा है। बताया गया है कि यह कोविड केंद्र पर्यटन और पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे के मतदाता क्षेत्र वरली में शुरू किया जाएगा। इस केंद्र में 1 साल से लेकर 18 साल तक के बच्चों को एडमिट किया जाएगा।

वही बच्चों के साथ मां का रहना भी जरूरी होगा। इसी बात को ध्यान में रखते हुए क्यूबिकल सिस्टम से जंबो केंद्र का निर्माण करवाया जाएगा। कहा गया है कि इस केंद्र में 70 प्रतिशत ऑक्सीजन बेड्स होंगे और 200 आईसीयू बेड्स होंगे। मिली जानकारी के तहत वरली का जंबो कोविड केंद्र 31 मई तक तैयार हो जाएगा। इसी के साथ मुंई के अन्य तीन ठिकानों में भी 2000 बेड्स की क्षमता वाले तीन जंबो कोविड केंद्र तैयार किए जा रहे हैं। इनमें से एक मालाड में दूसरा सायन के सोमय्या मेडिकल सेंटर और कांजुरमार्ग क्रॉम्प्टन कंपनी में तैयार किए जा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *