कोरोना वायरस की दूसरी लहर के बीच वैक्सीनेशन अभियान तेज करने के मद्देनजर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन को लेटर लिखा है। केजरीवाल ने मई से लेकर जुलाई महीने के बीच में हर महीने दिल्ली के लिए 60 लाख वैक्सीन की डोज की मांग की है। हर्षवर्धन को लिखे लेटर में दिल्ली सीएम ने कहा है कि आप भारत बायोटेक और सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) को दिल्ली के लिए वैक्सीन सप्लाई का निर्देश दें। साथ ही वैक्सीनेशन के लिए राज्यों को अलग से मोबाइल ऐप बनाने की छूट देने की मांग भी की है। मालूम हो कि एक मई से देशभर में वैक्सीनेशन अभियान का तीसरा फेज चल रहा है, जिसमें 18 साल से 44 साल के बीच वाले लोगों को टीका लगाया जा रहा है। हालांकि, इस दौरान वैक्सीन की कमी भी देखी जा रही है, जिसकी वजह से ज्यादा लोग टीका नहीं लगवा पा रहे। 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन को लिखे लेटर में अरविंद केजरीवाल ने कोविड वैक्सीनेशन को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा की गई मदद के लिए धन्यवाद कहा है। उन्होंने कहा है कि केंद्र सरकार को राज्यों को जरूरत के मुताबिक वैक्सीन उपलब्ध करवानी चाहिए। केंद्र, राज्य और प्राइवेट अस्पतालों- तीनों के लिए एक ही वैक्सीन का दाम तय किया जाना चाहिए। पत्र में आगे कहा गया है, ”पहले दो फेज के वैक्सीनेशन अभियान में दिल्ली सरकार ने काफी प्रगति की है। आठ मई तक हमने 38.97 लाख डोज लगाए हैं, जिसमें 30.35 लाख पहली डोज है और बाकी दूसरी डोज। 18-35 उम्र के लोगों के लिए तीन मई से दिल्ली में वैक्सीनेशन अभियान शुरू किया गया था। हमने भारत बायोटेक और सीरम इंस्टीट्यूट से वैक्सीन की खरीद के लिए ऑर्डर प्लेस कर दिया है, जबकि स्पूतनिक वैक्सीन के लिए डॉ. रेड्डी से बात हो रही है। हमने 18-45 आयुवर्ग को 2.99 लाख डोज भी लगाई हैं।”

तीन महीने में सभी का वैक्सीनेशन करना चाहती है सरकार
दिल्ली के मुख्यमंत्री ने लेटर में डॉ. हर्षवर्धन से कहा है कि चूंकि जल्द ही कोविड की तीसरी लहर का भी अंदेशा जताया गया है, इस वजह से दिल्ली सरकार तीन महीने में ही सभी लोगों को वैक्सीन लगाना चाहती है। दिल्ली में 45 से अधिक उम्र वाले लोगों की संख्या 57 लाख है। उन्हें 1.14 करोड़ डोज की जरूरत होगी, जिसमें से हमें 43 लाख डोज मिल चुके हैं। 71 लाख वैक्सीन की और जरूरत है। इसके साथ ही 18-45 उम्र वालों की संख्या को 92 लाख बताते हुए केजरीवाल ने कहा, ”मैं आपसे निवेदन करता हूं कि आप भारत बायोटेक और सीरम को मई से जुलाई के बीच में हर महीने 60 लाख वैक्सीन की डोज दिल्ली को उपलब्ध कराने का निर्देश दें।” उन्होंने आगे कहा कि अभी दिल्ली में रोजाना एक लाख लोगों को वैक्सीन लगाई जा रही है। आने वाले दिनों में हम इसे तीन लाख प्रति दिन तक बढ़ा रहे हैं।   

‘जब लोग मर रहे थे, तब टीका एक्सपोर्ट करना अपराध’
वहीं, दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने टीके का एक्सपोर्ट करने को लेकर रविवार को केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर अपने देश में लोगों को पहले टीके लगाए जाते तो बड़ी संख्या में जीवन बचाए जा सकते थे। सिसोदिया ने ऑनलाइन प्रेसवार्ता में आरोप लगाया, ”जब हमारे अपने देश में लोग मर रहे थे, उस समय केंद्र ने केवल अपनी छवि प्रबंधन के लिए अन्य देशों को टीके की बिक्री की, जोकि केंद्र सरकार द्वारा किया गया जघन्य अपराध है।” एक अखबार की रिपोर्ट का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि केंद्र ने 93 देशों को कोरोना वायरस टीके की बिक्री की, जिनमें से 60 फीसदी में संक्रमण नियंत्रण में था और वहां वायरस के चलते लोगों को जान का खतरा नहीं था। उप-मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर में बड़ी संख्या में युवाओं की जान चली गई।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed