गोरखपुर
कोरोना की दूसरी लहर ने रेलवे को भी प्रभावित किया है। पूर्वोत्तर रेलवे सहित बड़ी संख्या में रेलकर्मी कोरोना संक्रमित हो रहे हैं। इसका प्रभाव ट्रेनों के संचालन पर भी पड़ रहा है, जिसको देखते हुए रेल मंत्रालय ने कोरोना संक्रमित रेलकर्मियों और उनके स्वजनों के इलाज के लिए पूर्वोत्तर रेलवे सहित भारतीय रेल के सभी जोन को रेमडेसिविर इंजेक्शन उपलब्ध कराने का निर्णय लिया है।

सभी जोन को उपलब्ध होंगे रेमडेसिविर इंजेक्शनरेल मंत्रालय ने पूर्वोत्तर रेलवे सहित भारतीय रेल के सभी जोन में कुल 7500 रेमडेसिविर इंजेक्शन उपलब्ध कराने का निर्णय लिया है। इसमें से 200 रेमडेसिविर इंजेक्शन पूर्वोत्तर रेलवे को दिए जाएंगे। रेल मंत्रालय ने इसके लिए इंजेक्शन बनाने वाली फर्म से करार भी कर लिया है। दरअसल, रेलवे अस्पतालों में उपचार करा रहे संक्रमितों को रेमडेसिविर इंजेक्शन नहीं मिल पा रहा है। स्वजन इंजेक्शन के लिए इधर-उधर भटकने को मजबूर हैं। जिसे देखते हुए रेल मंत्रालय ने रेमडेसिविर इंजेक्शन उपलब्ध कराने का फैसला लिया है।

उधर, पूर्वोत्तर रेलवे कर मुख्य जनसंपर्क अधिकारी पंकज कुमार सिंह ने बताया कि ललित नारायण मिश्र केंद्रीय रेलवे अस्पताल में पर्याप्त चिकित्सा संसाधनों में कमी नहीं है, संक्रमितों को पूरी सुविधा मिल रही है। पूर्वोत्तर रेलवे को 200 इंजेक्शन और मिलने से सहूलियत होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *