लखनऊ:उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने गुरुवार को टीम-9 की बैठक के दौरान कोरोना महामारी के बीच अपनी निष्ठा और लगन से लोगों की सेवा करने वाले हेल्थ फ्रंटलाइन वर्कर्स के लिए एक बड़ा ऐलान किया। यूपी सरकार ने हेल्थ फील्ड से जुड़े फ्रंटलाइन वर्कर्स के लिए प्रोत्साहन राशि और मानदेय से जुड़ा आदेश जारी करते हुए कहा कि कोविड चिकित्सालय में तैनात चिकित्सक, नर्स, पैरामेडिकल और सफाईकर्मियों को 25% अतिरिक्त प्रोत्साहन राशि मिलेगी।

मिलेगी मूल वेतन की 25% अतिरिक्त प्रोत्साहन राशि

सूबे के मुख्यमंत्री ने बैठक के दौरान निर्देश देते हुए कहा कि नियमित और आउटसोर्सिंग दोनों कर्मियों को मूल वेतन का 25% अतिरिक्त प्रोत्साहन राशि के रूप में दिया जाएगा। इसके साथ ही कोविड अस्पतालों को डॉक्टर्स और पैरामेडिकल टीम की कमी को देखते हुए मुख्यमंत्री ने कोविड अस्पतालों में MBBS इंटर्न को 500 रुपये प्रतिदिन, MSC नर्सिंग को 400 रुपये प्रतिदिन, BSC नर्सिंग को 300 रुपये प्रतिदिन, MBBS अंतिम वर्ष और GNM के छात्र/छात्राओं को 300 रुपये प्रतिदिन मानदेय पर तैनाती के निर्देश दिए हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की ओर से कोविड अस्पतालों में छात्र-छात्रों की तैनाती करने के निर्देश देने के साथ साथ निजी क्षेत्र में काम करने वाले और सेवानिवृत्त स्वास्थ्य कर्मियों को मानदेय के आधार पर तैनाती करने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि सेवानिवृत्त और निजी कर्मियों को भी 25% अतिरिक्त राशि प्रोत्साहन के रूप में दी जाएगी। इसके साथ ही कोविड जांच लैब में तैनात कर्मियों को 10% अतिरिक्त धनराशि प्रोत्साहन के रूप में दी जाएगी। वहीं, उन्होंने 10 बेड पर एक डॉक्टर, 7 बेड पर एक नर्स, 15 बेड पर एक वार्ड ब्वॉय और 15 बेड पर एक सफाई कर्मी की भी तैनाती के निर्देश दिए हैं। उन्होंने बताया कि यह व्यवस्था 1 मई 2021 से शुरू होकर 31 जुलाई 2021 तक लागू रहेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *