देश में कोरोना के संकट के बीच में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन के बीच में मंगलवार को वर्चुअल समिट हुई है। इस समिट के बाद मीडिया को संबोधित करते हुए विदेश मंत्रालय ने बताया कि प्रधानमंत्री जॉनसन ने प्रधानमंत्री मोदी को सूचित किया कि सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ब्रिटेन में निवेश कर रहा है और ब्रिटेन में वह टीका बनाएगा। मोदी-जॉनसन वर्चुअल समिट पर विदेश मंत्रालय ने कहा कि रक्षा उपकरणों के सह-उत्पादन और सह-विकास पर चर्चा हुई है। साथ ही,  भारत-ब्रिटेन शिखर सम्मेलन से द्विपक्षीय संबंधों में नए अध्याय की शुरुआत हुई है। 

विदेश मंत्रालय ने बताया कि दोनों नेताओं ने कोरोना वायरस की वर्तमान स्थिति और इसके खिलाफ सहयोग से जारी लड़ाई को लेकर भी चर्चा की। पीएम मोदी ने कोरोना की दूसरी लहर के लिए ब्रिटेन द्वारा मुहैया करवाई गई मेडिकल सप्लाई को लेकर बोरिस जॉनसन को धन्यवाद भी कहा। विदेश मंत्रालय के यूरोप-वेस्ट के ज्वाइंट सेकरेट्री संदीप चक्रवर्ती ने कहा, ”रिस्पॉन्ड करने वालों में ब्रिटेन सबसे पहले था। उसने मेडिकल उपकरण जैसे- ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर्स, सिलेंडर्स, वैंटिलेटर्स और अन्य चीजें भेजीं। एसआईआई और ऑक्सफोर्ड की पार्टनरशिप पर भी चर्चा की गई है।

इस वर्चुअल बैठक में पीएम मोदी और बोरिस जॉनसन कोरोना वायरस की वैक्सीन, चिकित्सीय और निदान पर साझेदारी का विस्तार करने पर सहमत हुए हैं। वहीं, इस बातचीत पर पीएम मोदी ने ट्वीट कर बताया कि मैंने मेरे दोस्त यूके के पीएम बोरिस जॉनसन के साथ प्रोडक्टिव वर्चुअल समिट की। हमने भारत-ब्रिटेन संबंधों को व्यापक सामरिक भागीदारी के लिए एक महत्वाकांक्षी रोडमैप 2030 को अपनाया है। उन्होंने आगे कहा, ”हमने कोरोना वायरस पर जारी सहयोग को लेकर भी चर्चा की।”

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed