देश में बढ़ते कोरोना वायरस से मुकाबले के लिए एकजुट प्रयास के अंतर्गत रेल मंत्रालय ने लगभग 4000 रेल डिब्बों को कोविड देखभाल डिब्बों में तब्दील किया है जिसमें लगभग 64000 बिस्तर विभिन्न राज्यों के इस्तेमाल के लिए उपलब्ध कराये गए हैं।

कोविड मरीजों की देखभाल हेतु देश के विभिन्न राज्यों में अब तक 169 रेल डिब्बे उपलब्ध कराये जा चुके हैं।

नागपुर जिले से कोविड देखभाल डिब्बों की नई मांग की गई है। इसके अंतर्गत डिविजनल रेल प्रबंधक, नागपुर और नागपुर नगर निगम आयुक्त के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए। रेलवे इस मांग को पूरा करने के लिए 11 डिब्बों को उपलब्ध कराएगा जिन्हें कोविड-19 देखभाल डिब्बों में तब्दील किया गया है और प्रत्येक डिब्बे में 16 मरीजों को रखा जा सकता है। इन रेल डिब्बों में चिकित्सा की बुनियादी सुविधाएं राज्य स्वास्थ्य विभाग द्वारा उपलब्ध कराई जाएंगी। एमओयू के अनुसार रेलवे स्वच्छता और खानपान का प्रबंधन देखेगा। साथ ही साथ चिकित्सा कर्मियों के लिए अलग से स्थान सुनिश्चित किए गए हैं।

महाराष्ट्र राज्य की मांग पर रेलवे अजनी आईसीडी क्षेत्र के लिए भी आइसोलेशन डिब्बे रवाना कर रहा है।

महाराष्ट्र के इन नए स्थानों के अतिरिक्त देश के विभिन्न राज्यों दिल्ली, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र के 9 प्रमुख स्टेशनों पर तैनात किए गए कोविड देखभाल रेल कोचों का विवरण इस प्रकार है:

नंदुरबार (महाराष्ट्र), में अब तक कुल 57 मारीजों को रखा गया जिसमें से एक मरीज को स्थानांतरित कर दिया गया है। 322 बिस्तर इस समय उपयोग हेतु उपलब्ध हैं।

रेलवे ने दिल्ली में राज्य सरकार की मांग के अनुरूप कोविड देखभाल रेल डिब्बे उपलब्ध कराएं हैं। राज्य सरकार ने कुल 75 आइसोलेशन डिब्बों की मांग की थी जिसमें 1200 बिस्तर उपलब्ध हों। रेलवे ने 50 रेल कोच शकूरबस्ती और 25 रेल कोच आनंद विहार रेलवे स्टेशन के पास तैनात किए हैं, जिनमें 1200 बिस्तर उपलब्ध हैं।

मध्य प्रदेश सरकार की मांग के अनुरूप पश्चिमी रेलवे की रतलाम डिवीजन ने इंदौर के पास तीही स्टेशन पर 20 कोविड-19 डिब्बे उपलब्ध कराएं हैं जिनकी कुल क्षमता 320 बिस्तरों की है।

इन राज्यों में अब तक उपलब्ध कराए गए कुल कोविड देखभाल बिस्तरों में से 98 पर मरीज भर्ती किए गए जिनमें से 28 लोगों को उपचार उपरांत छुट्टी दे दी गई। ताजा रिपोर्ट के मुताबिक रेलवे ने 17 मरीज भर्ती किए जिनमें से 6 मरीजों को छुट्टी दी गई। वर्तमान समय में 70 लोग कोविड-19 आइसोलेशन कोच में स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में राज्य सरकार से अब तक कोविड-19 देखभाल कोच के लिए मांग नहीं आई थी फिर भी रेलवे ने अयोध्या, भदोही, वाराणसी, बरेली और नजीबाबाद स्टेशनों पर 10-10 रेल कोच उपलब्ध कराए हैं। इन 50 रेल कोचों की कुल क्षमता 800 बिस्तरों की है।देश में बढ़ते कोरोना वायरस से मुकाबले के लिए एकजुट प्रयास के अंतर्गत रेल मंत्रालय ने लगभग 4000 रेल डिब्बों को कोविड देखभाल डिब्बों में तब्दील किया है जिसमें लगभग 64000 बिस्तर विभिन्न राज्यों के इस्तेमाल के लिए उपलब्ध कराये गए हैं।

कोविड मरीजों की देखभाल हेतु देश के विभिन्न राज्यों में अब तक 169 रेल डिब्बे उपलब्ध कराये जा चुके हैं।नागपुर जिले से कोविड देखभाल डिब्बों की नई मांग की गई है। इसके अंतर्गत डिविजनल रेल प्रबंधक, नागपुर और नागपुर नगर निगम आयुक्त के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए। रेलवे इस मांग को पूरा करने के लिए 11 डिब्बों को उपलब्ध कराएगा जिन्हें कोविड-19 देखभाल डिब्बों में तब्दील किया गया है और प्रत्येक डिब्बे में 16 मरीजों को रखा जा सकता है। इन रेल डिब्बों में चिकित्सा की बुनियादी सुविधाएं राज्य स्वास्थ्य विभाग द्वारा उपलब्ध कराई जाएंगी। एमओयू के अनुसार रेलवे स्वच्छता और खानपान का प्रबंधन देखेगा। साथ ही साथ चिकित्सा कर्मियों के लिए अलग से स्थान सुनिश्चित किए गए हैं।महाराष्ट्र राज्य की मांग पर रेलवे अजनी आईसीडी क्षेत्र के लिए भी आइसोलेशन डिब्बे रवाना कर रहा है।महाराष्ट्र के इन नए स्थानों के अतिरिक्त देश के विभिन्न राज्यों दिल्ली, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र के 9 प्रमुख स्टेशनों पर तैनात किए गए कोविड देखभाल रेल कोचों का विवरण इस प्रकार है:नंदुरबार (महाराष्ट्र), में अब तक कुल 57 मारीजों को रखा गया जिसमें से एक मरीज को स्थानांतरित कर दिया गया है। 322 बिस्तर इस समय उपयोग हेतु उपलब्ध हैं।रेलवे ने दिल्ली में राज्य सरकार की मांग के अनुरूप कोविड देखभाल रेल डिब्बे उपलब्ध कराएं हैं। राज्य सरकार ने कुल 75 आइसोलेशन डिब्बों की मांग की थी जिसमें 1200 बिस्तर उपलब्ध हों। रेलवे ने 50 रेल कोच शकूरबस्ती और 25 रेल कोच आनंद विहार रेलवे स्टेशन के पास तैनात किए हैं, जिनमें 1200 बिस्तर उपलब्ध हैं।मध्य प्रदेश सरकार की मांग के अनुरूप पश्चिमी रेलवे की रतलाम डिवीजन ने इंदौर के पास तीही स्टेशन पर 20 कोविड-19 डिब्बे उपलब्ध कराएं हैं जिनकी कुल क्षमता 320 बिस्तरों की है।इन राज्यों में अब तक उपलब्ध कराए गए कुल कोविड देखभाल बिस्तरों में से 98 पर मरीज भर्ती किए गए जिनमें से 28 लोगों को उपचार उपरांत छुट्टी दे दी गई। ताजा रिपोर्ट के मुताबिक रेलवे ने 17 मरीज भर्ती किए जिनमें से 6 मरीजों को छुट्टी दी गई। वर्तमान समय में 70 लोग कोविड-19 आइसोलेशन कोच में स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं।उत्तर प्रदेश में राज्य सरकार से अब तक कोविड-19 देखभाल कोच के लिए मांग नहीं आई थी फिर भी रेलवे ने अयोध्या, भदोही, वाराणसी, बरेली और नजीबाबाद स्टेशनों पर 10-10 रेल कोच उपलब्ध कराए हैं। इन 50 रेल कोचों की कुल क्षमता 800 बिस्तरों की है।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *