भारत-चीन सीमा के समीप उत्तराखंड के जोशीमठ के पास एक ग्लेशियर फट गया है। कमांडर कपिल ने बताया कि श्रमिकों के कोई हानि हुई की नहीं इसके लिए जानकारी जुटाई जा रही है

भारतीय सेना की मध्य कमान ने कहा कि भारी हिमपात के चलते कल बीआरओ कैंप में आने के पश्चात् अब तक 291 व्यक्तियों को बचाया गया है। बता दें किं इन दिनों सीमा सड़क संगठन की तरफ से सड़क निर्माण के लिए वहां श्रमिक कार्य कर रहे हैं। सर्वाधिक बर्फबारी होने से सीमा क्षेत्र में वायरलेस टेस भी काम नहीं कर रहे हैं। बीते तीन दिनों से नीती घाटी में सर्वाधिक बर्फबारी हो रही है। मलारी से आगे जोशीमठ-मलारी हाईवे भी बर्फ से ढक गया है, जिससे सेना एवं आईटीबीपी की गाड़ियों की आवाजाही भी बाधित हो गई है।

उत्तराखंड के सीएम तीरथ सिंह रावत ने कहा है कि नीति घाटी के सुमना में ग्लेशियर टूटने की घटना का गृह मंत्री अमित शाह ने तत्काल संज्ञान लिया है तथा हमे सहायता का आश्वासन दिया है तथा साथ ही आईटीबीपी को अलर्ट रहने का आदेश दिया है। इससे पहले मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने इस घटना पर ट्वीट कर कहा था कि वे निरंतर जिला प्रशासन से संपर्क में हैं। उन्होंने कहा- “नीती घाटी के सुमना में ग्लेशियर टूटने की तहरीर प्राप्त हुई है। इस सिलसिले में मैंने अलर्ट जारी कर दिया है, मैं लगातार जिला प्रशासन तथा बीआरओ के सम्पर्क में हूं।”

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed