पूरा विश्व इस समय कोरोना महामारी से जूझ रहा है। कोरोना से इस जंग में वैक्सीन एक मजबूत हथियार साबित हो रही है। दुनिया में कई देश ऐसे हैं जिनके पास वैक्सीन नहीं है, सौभाग्य है कि भारत के पास खुद की दो वैक्सीन हैं और देश में विश्व का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान चल रहा है। भारत में वैक्सीनेशन की शुरुआत 16 जनवरी से शुरू है और अबतक भारत 13 करोड़ 49 लाख से अधिक लोगों का टीकाकरण हो चुका है, जबकि राज्यों के पास कुल 1.60 करोड़ वैक्सीन उपलब्ध है। ऐसे में जानते हैं कि भारत ने अब तक कितनी वैक्सीन लगा चुका है और राज्यों के पास कितनी वैक्सीन बची हैं।

किस राज्य में अब तक कितनी हुई वैक्सीन की खपत

केंद्र सरकार के सहयोग से राज्य नागरिकों को तीव्र गति से टीका लगा रहे हैे। सरकार की ओर से जारी 22 अप्रैल के आंकडों के मुताबिक इनमें 16 जनवरी से अबतक महाराष्ट्र में 1 करोड़ 25 लाख, राजस्थान में 1 करोड़ 18 लाख, यूपी में 1 करोड़ 13 लाख, गुजरात में 1 करोड़ 8 लाख से भी ज्यादा लोगों को कोरोना का पहला टीका लगाया जा चुका है।
वहीं केंद्र शासित प्रदेशों की सूची की अगर बात करें तो दिल्ली में 27 लाख, पुड्डुचेरी में 1.70 लाख, दादर और नागर हवेली मे 99 हजार, लद्दाख में 84 हजार, लक्षद्वीप में 19 हजार से भी अधिक लोगों को इस टीके की पहली खुराक दी जा चुकी है। दक्षिण के राज्यों में तमिलनाडु में 53 लाख 92 हजार, आंध्र प्रदेश में 49 लाख 27 हजार, ओडिशा में 49 लाख 94 हजार, केरल में 58 लाख, कर्नाटक में 75 लाख से अधिक लोगों को कोविड वैक्सीन लगाई जा चुकी है।
उत्तर पूर्वी राज्यों की सूची के तहत मणिपुर में 1.62 लाख, मेघालय में 1.80 लाख, त्रिपुरा में 9.34 लाख, अरुणाचल प्रदेश में 1.86 लाख से भी ज्यादा नागरिकों को टीका लगाया जा चुका है।

देशभर में कुल वैक्सीन की 59% डोज 8 राज्यों में लगाई गई है, जिसमें लगभग महाराष्ट्र (10.04%), राजस्थान (8.80%), उत्तर प्रदेश (8.51%), गुजरात (8.27%), पश्चिम बंगाल (7.10%), कर्नाटक (6.01%), मध्य प्रदेश (5.72%) और केरल (4.80%) शामिल हैं।

किन राज्यों के पास अभी कितनी और है वैक्सीन

बात कोरोना से अधिक प्रभावित राज्यों कि करें तो महाराष्ट्र में 18 लाख 80 हजार , राजस्थान में 8 लाख 90 हजार, यूपी में 17 लाख 82 हजार, गुजरात में 14 लाख से भी ज्यादा वैक्सीन के डोज उपलब्ध हैं। वहीं केंद्र शासित प्रदेशों की सूची की अगर बात करें तो दिल्ली में 7 लाख 29 हजार, पुडुचेरी में 75 हजार, दादरा और नागर हवेली में 26 हजार, लद्दाख में 44 हजार, लक्षद्वीप में 11 हजार से भी अधिक वैक्सीन बची हुई है। दक्षिण भारत की बात करें तो तमिलनाडु में 8 लाख 33 हजार, आंध्र प्रदेश में 7 लाख 25 हजार, ओडिशा में 8 लाख 84 हजार , केरल में 11 लाख 33 हजार, कर्नाटक में 12 लाख 79 हजार से अधिक कोविड वैक्सीन उपलब्ध है।
अगर वहीं उत्तर पूर्वी राज्यों की बात करें तो अरुणाचल प्रदेश में 0.37 हजार, असम में 5 लाख 14 हजार और सिक्किम में 76 हजार से अधिक वैक्सीन डोज उपलब्ध है।

गौरतलब हो भारत ने टीकाकरण के तीसरे फेज में 1 मई से 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों के लिए टीकाकरण शुरू करने की घोषणा कर दी है। इसके लिए जहां वैक्सीन निर्माताओं ने अपना उत्पादन बड़ा दिया है वहीं देश में तीसरी वैक्सीन स्पूतनिक वी को भी मंजूरी मिल गई है।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed