राजधानी दिल्ली में चल रही कोरोना की चौथी लहर के बीच अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में इलाज के लिए आने वाले लोगों के लिए बुरी खबर है। राजदानी में बेकाबू होते संक्रमण को देखते हुए एम्स ने मंगलवार को रुटीन वॉक इन ओपीडी बंद करने का आदेश दिया है।

एम्स की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि कोविड-19 महामारी के कम्युनिटी स्प्रैड को कम करने को कोविड-19 के संदिग्ध / पुष्टि रोगियों की देखभाल और इलाज के लिए उपलब्ध स्टाफ और सामग्री का अनुकूल उपयोग करने के लिए एम्स में स्पेशल क्लीनिक सहित सभी ओपीडी के मरीजों के रजिस्ट्रेशन और नियमित रूप से चलने वाले ओपीडी में मरीजों के रजिस्ट्रेशन गुरुवार 08.04.121 अस्थायी रूप से बंद कर दिए गए हैं।

जानकारी के अनुसार, दिल्ली सरकार ने कोरोना पर काबू पाने के लिए मंगलवार रात से कर्फ्यू लगाने का ऐलान किया है। 30 अप्रैल तक लगाए गए नाइट कर्फ्यू के तहत रात 10 से लेकर सुबह पांच बजे तक लोगों को घर से निकलने पर मनाही होगी। डीडीएमए ने दिल्ली में कोविड-19 के हालात की समीक्षा की जिसके बाद यह फैसला लिया है। हालांकि कुछ व्यवसायों से जुड़े लोगों को इसमें छूट दी गई है। 

दिल्ली में कोरोना की चौथी लहर

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को कहा था कि दिल्ली में कोरोना की स्थिति काबू में है और सरकार का लॉकडाउन लगाने का फिलहाल कोई विचार नहीं है। हम स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं और भविष्य में जरूरत पड़ती है, तो जनता से बात कर कोई निर्णय लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि दिल्ली कोरोना की चौथी लहर का सामना कर रही है, लेकिन यह पिछली लहर से कम गंभीर है। इसलिए अभी घबराने की जरूरत नहीं है। 

दिल्ली स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, शहर में सोमवार को कोविड-19 के 3,548 मामले सामने आए थे, जबकि 15 और लोगों की मौत के बाद मृतक संख्या 11,096 हो गई है। 

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *