तमिलनाडु के स्कूली शिक्षा मंत्री मा फोई पांडियाराजन एक विवादित वीडियो ट्वीट कर घिर गए और आखिरकार उन्हें यह वीडियो डिलीट करना पड़ा। दरअसल, वीडियो में एआईएडीएमके के लिए वोट मांगने के लिए एक टॉपर छात्र और मेडिकल की तैयारी करने वाली उस छात्रा को दिखाया गया था जिसने NEET मेडिकल परीक्षा की वजह से आत्महत्या कर ली थी। 

मेडिकल परीक्षा की तैयारी करने वाले पिछड़ी जातियों के पुराने वीडियो का इस्तेमाल कर के एक वीडियो बनाया गया था। वीडियो के मुताबिक, 17 वर्षीय अनीता सत्ताधारी एआईएडीएमके के उस नए नियम की सराहना करती जिसके मुताबिक, अब राज्य के सरकारी स्कूल के छात्रों के लिए मेडिकल एडमिशन में 7.5 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था की गई है। 

पांडियाराजन के इस ट्वीट की सुसाइड कर चुकी छात्रा के भाई तक ने आलोचना की है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘आपने यह साबित कर दिया कि आप लाशों से चिपटे रहने वाले कीड़े से भी बदतर हैं।’

हालांकि, एक नया वीडियो पोस्ट कर पंडियाराजन ने दावा किया कि पुराना वीडियो उनकी मर्जी के बिना पोस्ट किया गया था और उनका उससे कोई लेना-देना नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि उनकी नीयत किसी को अपमानित करने की नहीं थी। उन्होंने यह भी कहा कि मामले में साइबर-क्राइम सेल में एफआईआर भी दर्ज करवाई जाएगी।

नीट परीक्षा तमिलनाडु में मुख्य चुनावी मुद्दा है। बीते कुछ सालों में इस परीक्षा को पास न करने की वजह से 17 मेधावी छात्रों ने राज्य में आत्महत्या की है। इनमें से कुछ स्कूल टॉपर भी थे। 

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *