कुरान-ए-पाक की 26 आयतों को निकालने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करने वाले शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन वसीम रिजवी के खिलाफ शाहजहांपुर में एफआईआर दर्ज हुई। जिले के सदर थाने में चार वकीलों और एक मस्जिद के इमाम की तहरीर पर एफआईआर दर्ज की गई हैं। एफआईआर में शाहजहांपुर के वकील हाजी इम्तियाज अली आदि ने वसीम रिजवी पर गलत बयानबाजी कर मुस्लिमों को भड़काने का आरोप लगाया है।

लखनऊ पश्चिमी के मोहल्ला कश्मीरी निवासी वसीम रिजवी ने पिछले दिनों कुरान-ए-पाक की 26 आयतों को निकालने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। इसको लेकर शाहजहांपुर जिले समेत प्रदेश में कई जगह उनके खिलाफ प्रदर्शन हुए थे। अधिवक्ता हाजी इम्तियाज अली, अधिवक्ता एजाज हसन खां, अधिवक्ता अजमल हसन खां, अधिवक्ता एनी इरशाद और नूरी मस्जिद इमाम मौलाना शरीफ ने सदर थाने में कई दिन पहले वसीम रिजवी के खिलाफ एफआईआर लिखने के लिए तहरीर दी थी।

धार्मिक उन्माद और अराजकता फैलाने का आरोप

इसमें आरोप लगाया था कि वसीम रिजवी पर कई आपराधिक केस पहले से चल रहे हैं। कुछ केस में सीबीआई भी रिपोर्ट दर्ज कर चुकी हैं। सीबीआई जांच भी कर रही है। वसीम एक सोची समझी रणनीति के तहत सुप्रीम कोर्ट में अर्जी लगाकर न्यूज चैनल और समाचार पत्रों में साक्षात्कार देकर देश में धार्मिक उन्माद और अराजकता फैलाने का काम कर रहे हैं। जबकि कुरान में किसी तरह की फेरबदल और किसी भी भाग या अंश को समाप्त नहीं किया जा सकता।

आईपीसी की धारा 295-ए के तहत केस दर्ज

सदर थाना पुलिस के मुताबिक उच्चाधिकारियों के संज्ञान में मामला पहुंचने के बाद गुरुवार देर रात वसीम रिजवी के खिलाफ आईपीसी की धारा 295-ए के तहत के तहत रिपोर्ट दर्ज की हैं। थाना प्रभारी के मुताबिक तहरीर के आधार पर रिपोर्ट लिखी है। उनके बयानों को सुनकर उसके आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed