हरिद्वार: देवभूमि उत्तराखंड के हरिद्वार में आज से महाकुंभ-2021 का श्रीगणेश हो रहा है। 30 अप्रैल तक चलने वाले महाकुंभ में गंगा स्नान के लिए श्रद्धालुओं को कोरोना वायरस की 72 घंटे पहले तक की RTPCR निगेटिव रिपोर्ट लानी होगी। बगैर कोरोना निगेटिव रिपोर्ट के श्रद्धालु गंगा स्नान नहीं कर पाएंगे। कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित 12 राज्यों से आने वाले भक्तों पर विशेष नजर रहेगी। हरिद्वार के सभी बॉर्डर और मेला क्षेत्र में स्वास्थ्य विभाग तीर्थयात्रियों की रैंडम सैंपलिंग करेगा। धर्मशालाओं और होटलों में बगैर कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट के श्रद्धालु नहीं ठहर पाएंगे।

कुंभ मेला CMO डॉ. एसके झा ने बताया कि बॉर्डर और मेला क्षेत्र में रैंडम सैंपलिंग की जाएगी। अतिसंवेदनशील प्रदेशों से आने वाले परिवारों के एक-दो सदस्यों के रैंडम सैंपल लिए जाएंगे। सीमा पर संक्रमित पाए जाने पर सभी लोगों को लौटा दिया जाएगा। मेला क्षेत्र में पॉजिटिव पाए जाने वालों को कोविड केयर सेंटरों में आइसोलेट किया जाएगा। जांच के लिए 33 टीमें बनाई हैं। इनमें दस प्राइवेट और 23 सरकारी हैं। 10 हजार से अधिक एंटीजन सैंपल हर दिन लिए जाएंगे।

कोरोना वायरस के लिहाज से अतिसंवेदनशील 12 राज्यों से आने वाले मुसाफिरों की राज्य सीमा पर अनिवार्य रूप से कोरोना जांच की जाएगी। संक्रमण की पुष्टि होने पर यात्री और उसके पूरे समूह को लौटा दिया जाएगा।हरिद्वार: देवभूमि उत्तराखंड के हरिद्वार में आज से महाकुंभ-2021 का श्रीगणेश हो रहा है। 30 अप्रैल तक चलने वाले महाकुंभ में गंगा स्नान के लिए श्रद्धालुओं को कोरोना वायरस की 72 घंटे पहले तक की RTPCR निगेटिव रिपोर्ट लानी होगी। बगैर कोरोना निगेटिव रिपोर्ट के श्रद्धालु गंगा स्नान नहीं कर पाएंगे। कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित 12 राज्यों से आने वाले भक्तों पर विशेष नजर रहेगी। हरिद्वार के सभी बॉर्डर और मेला क्षेत्र में स्वास्थ्य विभाग तीर्थयात्रियों की रैंडम सैंपलिंग करेगा। धर्मशालाओं और होटलों में बगैर कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट के श्रद्धालु नहीं ठहर पाएंगे।

कुंभ मेला CMO डॉ. एसके झा ने बताया कि बॉर्डर और मेला क्षेत्र में रैंडम सैंपलिंग की जाएगी। अतिसंवेदनशील प्रदेशों से आने वाले परिवारों के एक-दो सदस्यों के रैंडम सैंपल लिए जाएंगे। सीमा पर संक्रमित पाए जाने पर सभी लोगों को लौटा दिया जाएगा। मेला क्षेत्र में पॉजिटिव पाए जाने वालों को कोविड केयर सेंटरों में आइसोलेट किया जाएगा। जांच के लिए 33 टीमें बनाई हैं। इनमें दस प्राइवेट और 23 सरकारी हैं। 10 हजार से अधिक एंटीजन सैंपल हर दिन लिए जाएंगे।कोरोना वायरस के लिहाज से अतिसंवेदनशील 12 राज्यों से आने वाले मुसाफिरों की राज्य सीमा पर अनिवार्य रूप से कोरोना जांच की जाएगी। संक्रमण की पुष्टि होने पर यात्री और उसके पूरे समूह को लौटा दिया जाएगा।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *