मेरठ
पंचायत चुनाव से ठीक पहले मेरठ में अवैध हथियारों की फैक्ट्री पकड़ी गई है। एसटीएफ और मेरठ पुलिस ने जिले में अलग-अलग जगह छापेमारी करके 133 से ज्यादा अवैध तमंचा और पिस्टल बरामद किए हैं। साथ ही 2 हथियार बनाने की फैक्ट्री का भी पर्दाफाश किया है। पुलिस ने 8 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। लेकिन बड़ा सवाल यह है कि आखिर पुलिस की नाक के नीचे हथियारों की अवैध फैक्ट्री चल कैसे रही थी।

मेरठ के थाना टीपी नगर और थाना ब्रह्मपुरी में जहां हथियार बनाने का कारखाना चल रहा था। मेरठ के थाना ब्रह्मपुरी क्षेत्र में हथियार बनाने की यह फैक्ट्री चोरी छुपे चलाई जा रही थी। इस फैक्ट्री में बनने वाले तमंचे 1500 से 5000 रुपये तक में बेचे जाते हैं। साथ ही पिस्टल 22 से 30 हजार तक बिक जाती है।मेरठपंचायत चुनाव से ठीक पहले मेरठ में अवैध हथियारों की फैक्ट्री पकड़ी गई है। एसटीएफ और मेरठ पुलिस ने जिले में अलग-अलग जगह छापेमारी करके 133 से ज्यादा अवैध तमंचा और पिस्टल बरामद किए हैं। साथ ही 2 हथियार बनाने की फैक्ट्री का भी पर्दाफाश किया है। पुलिस ने 8 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। लेकिन बड़ा सवाल यह है कि आखिर पुलिस की नाक के नीचे हथियारों की अवैध फैक्ट्री चल कैसे रही थी।मेरठ के थाना टीपी नगर और थाना ब्रह्मपुरी में जहां हथियार बनाने का कारखाना चल रहा था। मेरठ के थाना ब्रह्मपुरी क्षेत्र में हथियार बनाने की यह फैक्ट्री चोरी छुपे चलाई जा रही थी। इस फैक्ट्री में बनने वाले तमंचे 1500 से 5000 रुपये तक में बेचे जाते हैं। साथ ही पिस्टल 22 से 30 हजार तक बिक जाती है।

मेरठ के थाना टीपी नगर और थाना ब्रह्मपुरी में जहां हथियार बनाने का कारखाना चल रहा था। मेरठ के थाना ब्रह्मपुरी क्षेत्र में हथियार बनाने की यह फैक्ट्री चोरी छुपे चलाई जा रही थी। इस फैक्ट्री में बनने वाले तमंचे 1500 से 5000 रुपये तक में बेचे जाते हैं। साथ ही पिस्टल 22 से 30 हजार तक बिक जाती है।

इन्हीं की निशानदेही पर ब्रह्मपुरी में भी छापेमारी की गई। जिसके बाद लिसाड़ी गेट और किठौर में मेरठ पुलिस ने छापा मारा। यहां भारी मात्रा में अवैध हथियारों का जखीरा बरामद किया है। मेरठ के एसएसपी अजय साहनी ने बताया कि अपर मुख्य सचिव द्वारा दो लाख रुपये का इनाम पुलिस टीम को दिया गया है।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *