कोरोना महामारी के शुरुआती दौर से ही बढ़ते संक्रमण को देखते हुए स्कूल और कॉलेजों को महामारी के नियंत्रण में आने तक बंद करने के आदेश दिए गए थे। एक साल के लंबे इंतजार के बाद धीरे-धीरे सभी शिक्षण संस्थान कोरोना गाइडलाइंस के साथ खुलते गए। इसी बीच अब यूपी के कक्षा एक से पांच तक के सभी प्राथमिक स्कूल एक मार्च से खुलने जा रहे हैं। जिसके चलते अब राज्य सरकार की ओर से लंबे समय के बाद स्कूलों में प्रवेश करने वाले बच्चों का भव्य स्वागत करने के निर्देश दिए गए हैं।

स्कूलों की रंगीन गुब्बारों और फूलों से होगी सजावट
प्रदेश सरकार की ओर से पूर्व में ही कक्षा एक से पांच तक के सभी प्राथमिक विद्यालयों को एक मार्च से खोलने के निर्देश जारी हो चुके हैं। स्कूल खोलने की तारीख के नजदीक आते-आते प्रदेश सरकार ने पहले दिन विद्यालय में प्रवेश करने वाले बच्चों का विशेष स्वागत करने के निदेश दिए हैं। जिसके चलते स्कूल की कक्षाओं व गेट को रंग-बिरंगे गुब्बारों, फूलों व रंग बिरंगी झालरों से सजाया जाएगा।

टीका लगाकर बच्चों का होगा स्वागत
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की ओर से यूपी के बेसिक शिक्षा विभाग को स्कूलों में ऐसा माहौल तैयार करने के निर्देश दिए गए हैं। जिससे विद्यालय में पढ़ने वाले बच्चे कक्षाओं में वापस लौटने के लिए प्रोत्साहित हो सकें। बीएसए लखनऊ दिनेश कुमार ने बताया कि एक मार्च को कक्षा एक से पांच तक के सभी प्राथमिक विद्यालय खोले जाएंगे। पहले दिन सभी स्कूलों में सजावट करने के साथ ही पहले दिन प्रवेश करने वाले बच्चे रोजाना खुशी से विद्यालय आ सकें, इसके लिए स्वागत के दौरान उनके माथे पर तिलक भी लगाया जाएगा।

पेयजल और शौचालय की व्यवस्था करने के दिए निर्देश

इतना ही नहीं, प्रदेश के सभी स्कूलों में बच्चों के पीने के पानी के लिए पेयजल की उचित व्यवस्था करने के निर्देश भी दिए गए हैं। जानकारों की मानें तो शिक्षकों को कंपोजिट ग्रांट से रनिंग वाटर की व्यवस्था करनी होगी। इसके अलावा विद्यालय में पढ़ने वाली छात्राओं के लिए शौचालय की अलग व्यवस्था की जाएगी। प्रदेश सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि ऑपरेशन कायाकल्प के तहत स्कूलों का कायाकल्प किया जा रहा है।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *