कोरोना वायरस कहां से पनपा था अब इस पर रिपोर्ट विश्व स्वास्थ्य संगठन की टीम अगले सप्ताह अपनी प्रारंभिक जांच रिपोर्ट देगी। फिलहाल टीम को चीन उन 174 प्रारंभिक मरीजों के डाटा देने में आनाकानी कर रहा है, जिनको दिसंबर माह में सबसे पहले कोरोना संक्रमण के लक्षण मिले थे।

दिसंबर, 2020 में मिले थे सबसे पहले कोरोना संक्रमण के लक्षण

इसका मतलब यह हुआ कि अब वैज्ञानिकों को और अधिक मेहनत करनी होगी। चीन में कोरोना की उत्पत्ति का पता लगाने गई विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की टीम अगले सप्ताह अपनी प्रारंभिक जांच रिपोर्ट देगी। फिलहाल टीम को चीन उन 174 प्रारंभिक मरीजों के डाटा देने में आनाकानी कर रहा है, जिनको दिसंबर, 2020 में सबसे पहले कोरोना संक्रमण के लक्षण मिले थे।

अगले सप्ताह तक आ जाएगी टीम की प्रारंभिक जांच रिपोर्ट

डब्ल्यूएचओ प्रमुख टेड्रोस अदनोम घेबरेसस ने बताया कि चीन के वुहान शहर में की जा रही जांच महत्वपूर्ण है। हम सभी संभावनाओं को लेकर जांच कर रहे हैं। अगले सप्ताह टीम की प्रारंभिक जांच रिपोर्ट आ जाएगी। इसके कुछ सप्ताह बाद पूरी जांच रिपोर्ट जारी कर दी जाएगी।

जांच दल सभी प्रश्नों के उत्तर नहीं खोज सकता, मिला संकेत

उन्होंने यह भी संकेत दिया है कि जांच दल सभी प्रश्नों के उत्तर नहीं खोज सकता, लेकिन इस अभियान के जरिये हम महामारी के प्रारंभिक दिनों और उत्पत्ति के बारे में बहुत कुछ जान पाएंगे। कुछ दिन पहले वैज्ञानिकों की टीम ने इस बात को सिरे से खारिज कर दिया था कि कोरोना वायरस लैब में बनाया गया है।

महामारी की उत्पत्ति के बारे में इन प्रारंभिक डाटा का विश्लेषण करना बेहद जरूरी

इधर, चीन ने वैज्ञानिकों के जांच दल को उन 174 मरीजों का डाटा देने से इन्कार कर दिया है, जिन्हें वुहान में दिसंबर 2019 में कोरोना के प्रारंभिक लक्षण मिले थे। वुहान से वीडियो कॉल पर टीम के एक वैज्ञानिक डोमिनिक डायर ने बताया कि महामारी की उत्पत्ति के बारे में इन प्रारंभिक डाटा का विश्लेषण करना बहुत ही जरूरी है।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *