पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी रोजाना बीजेपी पर हमला बोलते हुए तरह-तरह के आरोप लगा रही हैं। दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन के बीच ममता बनर्जी ने मंगलवार को नए तरीके से बीजेपी पर निशाना साधा। उन्होंने आरोप लगाया कि बीजेपी किसानों को लूटकर उनकी जमीन ले लेगी। किसानों के पास कुछ भी नहीं बचेगा। पूर्व वर्धमान जिले में आयोजित रैली में ममता बनर्जी ने आगे कहा, ”किसान अपनी फसल बोएंगे-काटेंगे और उनसे सबकुछ छीन लिया जाएगा।”

पश्चिम बंगाल में अप्रैल-मई में विधानसभा चुनाव होने हैं। माना जा रहा है कि जल्द ही चुनाव आयोग तरीखों का ऐलान कर सकता है। आयोग पिछले कुछ समय में लगातार बैठकें करता रहा है और कोरोना के बावजूद समय पर चुनाव कराने के लिए प्रतिबद्ध है। चुनाव से पहले तृणमूल कांग्रेस और बीजेपी नेता एक-दूसरे पर तीखे बाण छोड़ रहे हैं।

पूर्वी वर्धमान की रैली में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस सरकार द्वारा किसानों की सत्यापित सूची केंद्र को भेजने के बावजूद बीजेपीनीत केंद्र सरकार ने राज्य में किसानों को प्रधानमंत्री किसान योजना के तहत पैसा नहीं दिया है। उन्होंने कहा कि बीजेपी झूठे दावे कर रही है कि पश्चिम बंगाल सरकार किसानों को पैसे नहीं दे रही है। बनर्जी ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस सरकार प्रत्येक किसान को पांच हजार रुपये दे रही है और उसने मुफ्त फसल बीमे की भी व्यवस्था की है।

इससे पहले, मुख्यमंत्री ने सोमवार को विधानसभा में कहा था कि केंद्र सरकार द्वारा सत्यापन के लिए भेजे गए छह लाख आवेदनों में से राज्य सरकार ने ढाई लाख किसानों के नाम की सूची भेजी थी। तृणमूल अध्यक्ष ने पूर्व वर्धमान जिले के कलना में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि दिल्ली के बाहर आंदोलनरत किसानों को अत्याचार का सामना करना पड़ रहा है।

वहीं, बीजेपी पर हिंदुत्व के बारे में झूठ फैलाने करने का आरोप लगाते हुए बनर्जी ने कहा कि उनकी पार्टी धर्म के आधार पर विभाजन नहीं करती। उन्होंने कहा, ”बीजेपी ने देश को एक शवदागृह में बदल दिया है लेकिन हम वैसा ही बंगाल में नहीं होने देंगे।” बनर्जी ने कहा कि विधानसभा चुनाव में तृणमूल लगातार तीसरी बार जीत हासिल करेगी। कुछ दिन पहले ही नौकरी से इस्तीफा देने वाले आईपीएस अधिकारी हुमायूं कबीर, रैली में बनर्जी की उपस्थिति में तृणमूल कांग्रेस में शामिल हुए।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *