केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर पिछले दो माह से अधिक समय से किसानों का प्रदर्शन जारी है। बीते गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर परेड के बाद अब किसान आंदोलन को और धार देने के लिए संगठनों ने आज देशव्यापी चक्का जाम का ऐलान किया है। किसानों के इस चक्का जाम को कांग्रेस समेत कई पार्टियों का समर्थन प्राप्त है। हालांकि, चक्का जाम का असर राजधानी दिल्ली में नहीं होगा। प्रदर्शनकारी किसानों ने कहा है कि दिल्ली, उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड में आज यानी शनिवार को चक्का जाम नहीं होगा। किसान देश के अन्य हिस्सों में शांतिपूर्ण तरीके से तीन घंटे के लिए राष्ट्रीय एवं राज्य राजमार्गों को बाधित करेंगे। ‘चक्का जाम’ शनिवार को दोपहर 12 बजे से 3 बजे तक किये जाने का प्रस्ताव है। भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि शनिवार को उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में चक्का जाम नहीं होगा, लेकिन इन दोनों राज्यों के किसानों को किसी भी समय दिल्ली बुलाया जा सकता है। किसान देश के अन्य हिस्सों में शांतिपूर्ण तरीके से तीन घंटे के लिए राष्ट्रीय एवं राज्य राजमार्गों को बाधित करेंगे। 40,000 सुरक्षा बल तैनात

दिल्ली पुलिस ने राष्ट्रीय राजधानी के नाकों पर करीब 40,000 सुरक्षा बल तैनात किए हैं। इसमें अपने क्षेत्रों में निगरानी रखने के लिए स्थानीय पुलिस बल भी शामिल हैं। दिल्ली में कम से कम 12 मेट्रो स्टेशनों को अलर्ट पर रखा गया है।

दिल्ली की सीमाओं पर सुरक्षा

चक्का जाम के मद्देनजर दिल्ली पुलिस के डीसीपी क्राइम चिन्मय बिस्वाल ने बताया कि टिकरी, सिंघु और गाजीपुर बॉर्डर पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है। दिल्ली के अंदर भी सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। नई दिल्ली के डीसीपी ने दिल्ली मेट्रो के अधिकारियों को पत्र लिखकर जरूरत पड़ने पर राजीव चौक, केंद्रीय सचिवालय समेत इलाके के 12 मेट्रो स्टेशन शॉर्ट नोटिस पर बंद करने के लिए तैयार रहने को कहा है।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *