एयरो-इंडिया के आखिरी दिन यूपीईडा 17 ऐसे करार करने जा रहा है जिसके तहत रक्षा क्षेत्र की कंपनियां अपने प्लांट यूपी डिफेंस कोरिडोर नें लगाने जा रही हैं. इससे उत्तर प्रदेश में करीब पांच हजार करोड़ के निवेश की उम्मीद है और करीब 9 हजार लोगों को रोजगार मिल‌ सकेगा. यो एमओयू देश की राष्ट्रपति रामनाथ कोविद की मौजूदगी में साइन किए जाएंगे.

बेंगलुरू में चल रहे तीन दिवसीय एयरो-इंडिया शो के दौरान देश-विदेश की कंपनियां तो अपने फाइटर जेट्स, हेलीकॉप्टर और दूसरे सैन्य साजो सामान की प्रदर्शनी लगा रही हैं, साथ ही आपसी करार के लिए भी एक बड़ा प्लेटफॉर्म बना है.

यूपी के डिफेंस कोरिडोर में रक्षा क्षेत्र की कंपनियां अपने फैक्ट्री और प्लांट लगा सके, उसके लिए यूपीईडा यानि उत्तर प्रदेश एक्सप्रेस-वे इंडस्ट्रियल अथोरेटी ने भी अपना खास पैविलयिन तैयार किया है. इस पैवेलियन का थीम एक्सप्रेस-वे पर भारतीय वायुसेना का सुखोई फाइटर जेट टेक-ऑफ करते हुए दिखाया गया है.

यूपी डिफेंस कोरिडोर के लिए कंपनियों से हो रही है बात

यूपीईडा के सलाहकार, कर्नल के एस त्यागी ने एबीपी न्यूज से खास बातचीत में बताया कि यूपी डिफेंस कोरिडोर के लिए देश-विदेश की कंपनियों से लगातार बातचीत चल रही है ताकि उन्हें उत्तर प्रदेश में निवेश के लिए प्रोत्साहित किया जा सके. इसी लिए एयरो इंडिया शो में यूपीईडा ने अपना एक अलग पैवलियन बनाया है. एशिया की सबसे बड़ी एयरोस्पेस प्रदर्शनी के आखिरी दिन 17 एमओयू यानि करार किए जाएंगे-जिसे बंधन नाम दिया गया है.

आपको बता दें कि मोदी सरकार ने देश में दो डिफेंल इंडस्ट्रियल कोरिडोर बनाए जाने की घोषणा की थी- एक तमिलनाडु और दूयरा उत्तर प्रदेश में. उत्तर प्रदेश में ये कोरिडोर छह नोड्स में तैयार किया जा रहा है- अलीगढ़, आगरा, कानपुर, प्रयागराज, झांसी और चित्रकूट. इस यूपी डिफेंस कोरिडोर को विकसित करने की जिम्मेदारी यूपी ‌सरकार ने यूपीईडा के कंधों पर डाली है.

यूपीईडो के मीडिया सलाहकार, दुर्गेश उपाध्याय के मुताबिक, यूपीईडा उत्तर प्रदेश में ऐ‌से उन्नत किस्म के एक्सप्रेस-वे बना रही है जहां पर वायुसेना के फाइटर जेट्स भी अपने ऑपरेशन्स कर सकती है. इसीलिए यूपीईडा के पैवेलियन में ‌सुखोई को एक्सप्रेस-वे पर टेक ऑफ करते हुए दिखाया गया है.

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *