एक हजार वर्ष पुरानी धरोहर मोनपा हस्तनिर्मित कागज या “मोन शुगु” की बिक्री ने गति पकड़ ली है। 25 दिसंबर 2020 को अरुणाचल प्रदेश के तवांग में इस प्राचीन कला को पुनर्जीवित करने वाले खादी और ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) ने मोनपा हस्तनिर्मित कागज को ऑनलाइन बिक्री के लिए ई-पोर्टल www.khadiindia.gov.in पर उपलब्ध करवाया है। यही नहीं, प्रधानमंत्री ने रेडियो कार्यक्रम मन की बात में विशेष रूप से इसका उल्लेख किया, जिसके इस विशेष प्रकार के कागज को नई पहचान मिली।

मोनपा हस्तनिर्मित कागज की कीमत 50 पैसे प्रति शीट

खादी ग्रामोद्योग की वेबसाइट पर लॉन्च के पहले दिन मोनपा हस्तनिर्मित कागज की 100 से अधिक शीट बिकीं। इनके सबसे ज्यादा ऑर्डर महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश से मिले। पीएम द्वारा इस प्राचीन कला के बारे में बात करने के बाद, तवांग में प्रशिक्षित स्थानीय कारीगरों द्वारा हस्तनिर्मित इस कागज को रविवार (31 जनवरी) को ऑनलाइन बिक्री के लिए रखा गया था। मोनपा हस्तनिर्मित कागज न सिर्फ पर्यावरण संरक्षण में सहयोग देता है, बल्कि यह स्थानीय कारीगरों के लिए आय के नए रास्ते भी खोल रहा है। इस हस्तनिर्मित कागज की लंबाई 24 इंच और चौड़ाई 16 इंच होती है जिसकी कीमत 50 पैसे प्रति शीट के किफायती दाम पर तय की गई है।

भारत और विदेशों के बाजार में संभावना

केवीआईसी के चेयरमैन विनय कुमार सक्सेना का कहना है कि अपनी धार्मिक और सांस्कृतिक महत्ता के कारण मोनपा हस्तनिर्मित कागज के लिए भारत और विदेशों के बाजार में काफी संभावनाएं हैं। इसकी ऑनलाइन बिक्री के पहले दिन हमें 100 शीट्स से भी ज्यादा के ऑर्डर मिले हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री की अपील इस कागज को निश्चित रूप से लोगों के बीच लोकप्रिय बना देगी। हम मोनपा हस्तनिर्मित कागज के लिए नए बाजार की तलाश करेंगे जो कि अरुणाचल प्रदेश में इस उद्योग और स्थानीय कारीगरों को मजबूत करेगा।

घरों में भी होता है मोनपा हस्तनिर्मित कागज का उत्पादन

इस कला के पुनरुद्धार को अहम माना जा रहा है कि क्योंकि एक समय तवांग के सभी घरों में मोनपा हस्तनिर्मित कागज का उत्पादन किया जाता था और फिर इसे तिब्बत, भूटान, म्यांमार और जापान जैसे कई अन्य देशों में निर्यात किया जाता था। हालांकि नई तकनीक के आने के साथ,पिछले 100 सालों में हस्तनिर्मित कागज का यह उद्योग लगभग विलुप्त हो गया था।

पेड़ शुगु शेंग की छाल से बनाया जाता है मोनपा कागज

विशेषतः मोनपा हस्तनिर्मित कागज तवांग में स्थानीय रूप से उगाए जाने वाले पेड़ शुगु शेंग की छाल से बनाया जाता है और विशिष्ट पारभासी रेशेदार बनावट से पहचाना जाता है। यह कागज भारहीन होता है लेकिन इसके प्राकृतिक रेशे इसमें लचीली मजबूती लाते हैं जो इसे विभिन्न कलात्मक कार्यों के लिए उपयुक्त कागज बनाता है। मोनपा हस्तनिर्मित कागज का उपयोग बौद्ध धर्मग्रंथों, पांडुलिपियों को लिखने और प्रार्थना ध्वजों को बनाने में किया जाता था। इस पेपर पर लिखावट क्षति रहित मानी जाती है। तवांग में बनाए गए मोनपा हस्तनिर्मित कागज उद्योग का उद्देश्य स्थानीय युवाओं को इस कला से पेशेवर रूप में जोड़ना और कमाना है।

शुरू में इस पेपर यूनिट में 9 कारीगर लगे हैं जो प्रतिदिन मोनपा हस्तनिर्मित कागज के 500 से 600 शीट का उत्पादन कर सकते हैं। इन कारीगरों को प्रतिदिन 400 रुपये की आमदनी होती है। इसे शुरू करने के लिए स्थानीय गांव से 12 महिलाओं और 2 पुरुषों को मोनपा हस्तनिर्मित कागज बनाने के लिए प्रशिक्षित किया गया था, अब तमाम और लोग आगे आ रहे हैं।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *