लखनऊ में ट्रांसपोर्टनगर स्थित शीतल फार्मा में सोमवार देर रात भीषण आग लग गई। गोदाम में सैनिटाइजर भरे होने के कारण आग तेजी से फैली। तीन मंजिला इमारत में दवाइयां और नमकीन का भी गोदाम है। जो आग की चपेट में आ गया। सूचना पर पहुंचे दमकल कर्मियों ने गोदाम में फंसे लोगों को निकाला और जेसीबी से दीवारें तोड़कर राहत कार्य शुरू किया। अग्निकांड के दौरान ताबड़तोड़ धमाकों से पूरा इलाका दहल उठा। सोमवार देर रात लगी आग मंगलवार दोपहर बाद काबू में आई।

कृष्णानगर निवासी बद्री प्रसाद अग्रवाल दवा और नमकीन का व्यापार करते हैं। ट्रांसपोर्ट नगर में उनका ऑफिस और गोदाम है। जिसमें सैनिटाइजर, दवाइयां और नमकीन का स्टॉक था। सोमवार रात कर्मचारी गोदाम में सो रहे थे। रात 12 बजे करीब गोदाम से धुंआ और आग की लपटें उठते देख कर्मचारी दहशत में आ गये। पानी फेंककर आग को काबू पाने का प्रयास किया गया। असफल होने पर दमकल और पुलिस को सूचना दी गई। इस बीच सैनिटाइजर के कारण आग तेजी से फैली। जिसके कारण गोदाम कर्मी अंदर फंस गए।

सरोजनीनगर फायर स्टेशन से एफएसओ शिवराम यादव टीम के साथ पहुंचे और मुख्य गेट खोलकर आनन फानन कर्मचारियों को टीम की मदद से बाहर निकाला। गोदाम कर्मियों के बाहर निकलते ही सैनिटाइजर के ड्रमों में धमाका होने लगा। जिससे अफरा-तफरी मच गई। सूचना पर आलमबाग, पीजीआइ और हजरतगंज समेत अन्य फायर स्टेशनों से दमकल की गाड़िया बुलाई गईं।

सीएफओ विजय कुमार सिंह पहुंचे। दर्जनों दमकल की गाड़ियों को फायर फाइटिंग में लगा गया था। हालात काबू न होते देख जेसीबी की मदद से गोदाम की दीवारें तोड़ी गई। 12 घंटे से आधिक की कड़ी मशक्कत के बाद दमकल कर्मी मंगलवार दोपहर बाद आग पर काबू पा सकें।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *