वाराणसी
उत्तर प्रदेश के वाराणसी में जल्‍द गंगा की लहरों पर तैरती हुई लाइब्रेरी नजर आएगी। इसके लिए खास तौर पर तैयार होने वाली दो मंजिली नाव को लाइब्रेरी का रूप दिया जाएगा। अत्‍याधुनिक सुविधाओं से लैस नाव में बैठकर पढ़ने की व्‍यवस्‍था होगी तो उच्‍चस्‍तरीय डेटा बैंक में देश-दुनिया की चुनिंदा किताबों का संग्रह उपलब्‍ध होगा। वाई-फाई से लैस यह नाव दशाश्‍वमेध से अस्‍सी तक दौड़ती रहेगी।

60-seater boat reaches river; Pic: JIGNESH VORA

चलती-फिरती होगी लाइब्रेरी
काशी आने वाले पर्यटकों को सुकून माहौल देने तथा युवाओं में किताबों के अध्‍ययन के प्रति रूचि पैदा करने के लिए प्रदेश सरकार की मंशा के अनुरूप प्रशासन ने गंगा में चलती-फिरती लाइब्रेरी शुरू करने का प्‍लान तैयार किया है। पायलट प्रॉजेक्‍ट के रूप में इसे एक साल तक संचालित करने की योजना है

सीएसआर फंड का लिया जाएगा सहयोग
लाइब्रेरी के लिए प्रदूषणमुक्‍त यानी सीएनजी से संचालित होने वाली दो मंजिला नाव तैयार कराने से लेकर अन्‍य सुविधाओं के लिए कंपनियों से संपर्क कर सीएसआर फंड का सहयोग लिया जाएगा। इसका संचालन और मॉनिटरिंग सामाजिक संस्‍थाओं के सहयोग से होगी।

बच्चों के लिए भी होंगी किताबें
चलती-फिरती लाइब्रेरी में देश-दुनिया की पत्रिकाओं के साथ ही कॉफी टेबल मैगजीन, हिन्‍दी-अंग्रेजी साहित्‍य व संस्‍कृति, खासकर काशी नगरी के गूढ़ रहस्‍य को समझने के लिए थाती और वैभव से जुड़ी पुस्‍तकें होंगी। गंगा घाट किनारे रहने वाले नाविकों के बच्‍चों को अध्‍ययन से जोड़ने की कोशिश के क्रम में लाइब्रेरी में अलग गैलरी में सिर्फ बच्‍चों के लिए ही किताबें होंगी। पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए नाव कलर फुल होगी और उसके बाहरी हिस्‍से में काशी की झलक से जुड़ी पेंटिंग दिखेंगी।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *