प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को ‘मन की बात 2.0’ कार्यक्रम की 20वीं कड़ी में देशवासियों संग अपने विचार साझा किए। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा, “दिल्ली में, 26 जनवरी को तिरंगे का अपमान देख, देश, बहुत दुखी हुआ। हमें आने वाले समय को नई आशा और नवीनता से भरना है। हमने पिछले साल असाधारण संयम और साहस का परिचय दिया। इस साल भी हमें कड़ी मेहनत करके अपने संकल्पों को सिद्ध करना है।”

क्रिकेट पिच से मिली बहुत अच्छी खबर

उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति द्वारा संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित करने के बाद बजट सत्र भी शुरू हो गया है। प्रधानमंत्री ने कहा “इस महीने, क्रिकेट पिच से बहुत अच्छी खबर मिली। हमारी क्रिकेट टीम ने शुरुआती दिक्कतों के बाद, शानदार वापसी करते हुए ऑस्ट्रेलिया में सीरीज जीती। हमारे खिलाड़ियों का hard work और teamwork प्रेरित करने वाला है।”

मेड इन इंडिया वैक्सीन से भारत का आत्मगौरव बढ़ा

उन्होंने यह भी कहा कि भारत अपनी आजादी के 75 वर्ष का समारोह अमृत महोत्सव शुरू करने जा रहा है। प्रधानमंत्री ने ने कहा कि मेड इन इंडिया वैक्सीन से भारत का आत्मगौरव बढ़ा है और ये आत्मनिर्भर भारत के प्रतीक हैं। उन्होंने कहा कि सरकार खेती को आधुनिक बनाने के लिए प्रतिबद्ध है।

यहां पढ़ें पीएम मोदी के संबोधन के प्रमुख अंश-

  • इस साल की शुरुआत के साथ ही कोरोना के खिलाफ हमारी लड़ाई को भी करीब-करीब एक साल पूरा हो गया है। जैसे कोरोना के खिलाफ भारत की लड़ाई एक उदाहरण बनी है, वैसे ही, अब, हमारा Vaccination programme भी, दुनिया में, एक मिसाल बन रहा है।
  • राष्ट्र ने असाधारण कार्य कर रहे लोगों को उनकी उपलब्धियां और मानवता के प्रति उनके योगदान के लिए सम्मानित किया। इस साल भी, पुरस्कार पाने वालों में, वे लोग शामिल हैं, जिन्होंने, अलग-अलग क्षेत्रों में बेहतरीन काम किया है, अपने कामों से किसी का जीवन बदला है, देश को आगे बढ़ाया है।
  • इस वर्ष से भारत, अपनी आजादी के, 75 वर्ष का समारोह-अमृत महोत्सव शुरू करने जा रहा है। ऐसे में यह हमारे उन महानायकों से जुड़ी स्थानीय जगहों का पता लगाने का बेहतरीन समय है, जिनकी वजह से हमें आजादी मिली।
  • इस महीने, क्रिकेट पिच से भी बहुत अच्छी खबर मिली। हमारी क्रिकेट टीम ने शुरुआती दिक्कतों के बाद, शानदार वापसी करते हुए ऑस्ट्रेलिया में सीरीज जीती। हमारे खिलाड़ियों का hard work और teamwork प्रेरित करने वाला है
  • सिर्फ 15 दिन में, भारत, अपने 30 लाख से ज्यादा, corona warrior का टीकाकरण कर चुका है, जबकि, अमेरिका जैसे समृद्ध देश को, इसी काम में, 18 दिन लगे थे और ब्रिटेन को 36 दिन।
  • मैं सभी देशवासियों को और खासकर के अपने युवा साथियों को आह्वान करता हूं कि वे देश के स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में, आजादी से जुड़ी घटनाओं के बारे में लिखें … अब, जबकि, भारत अपनी आजादी के 75 वर्ष मनायेगा, तो आपका लेखन आजादी के नायकों के प्रति उत्तम श्रद्धांजलि होगी।
  • बेकार हुई सब्जियों से बिजली बनाने के बारे में शायद ही आपने कभी सुना हो-यही तो innovation की ताकत है। आज बोयिनपल्ली की मंडी में पहले जो waste था, आज उसी से wealth create हो रही है – यही तो कचरे से कंचन बनाने की यात्रा है।
  • संकट के समय में भारत, दुनिया की सेवा इसलिए कर पा रहा है, क्योंकि, भारत, आज, दवाओं और Vaccine को लेकर सक्षम है, आत्मनिर्भर है। यही सोच आत्मनिर्भर भारत अभियान की भी है। भारत, जितना सक्षम होगा, उतनी ही अधिक मानवता की सेवा करेगा, उतना ही अधिक लाभ दुनिया को होगा।
  • हरियाणा के पंचकुला की बड़ौत ग्राम पंचायत के क्षेत्र में पानी की निकासी की समस्या थी…ग्राम पंचायत ने पूरे गांव से आने वाले गंदे पानी को एक जगह इकठ्ठा करके filter करना शुरू किया, और filter किया हुआ ये पानी, अब गांव के किसान, खेतों में सिंचाई के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं।
  • मुंगेर के रहने वाले जयराम विप्लव जी ने मुझे तारापुर शहीद दिवस के बारे में लिखा है। 15 फरवरी1932 को, देशभक्तों की एक टोली के कई वीर नौजवानों की अंग्रेजों ने बड़ी ही निर्ममता से हत्या कर दी थी। उनका एकमात्र अपराध यह था कि वे ‘वंदे मातरम’ और ‘भारत मां की जय’ के नारे लगा रहे थे।
  • केरल के कोट्टयम में एक दिव्यांग बुजुर्ग राजप्पन जी paralysis के कारण चलने में असमर्थ हैं, लेकिन वो पिछले कई सालों से नाव से वेम्बनाड झील में जाते हैं और उसमें फेंकी गई प्लास्टिक की बोतलें बाहर निकाल करके ले आते हैं। हमें भी उनसे प्रेरणा लेकर स्वच्छता के लिए योगदान देना चाहिए।
  • झांसी का ‘Strawberry festival’ Stay At Home concept पर जोर देता है। इस महोत्सव के माध्यम से किसानों और युवाओं को अपने घर के पीछे खाली जगह पर, या छत पर Terrace Garden में बागवानी करने और strawberries उगाने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है।
  • मीना राहंगडाले जी ने सब महिलाओं को जोड़कर ‘स्वयं सहायता समूह’ बनाया, सबने अपनी बचाई हुई पूंजी से पैसा जुटाया। जो पैसा कम पड़ा, उसके लिए ‘आजीविका मिशन’ के तहत बैंक से कर्ज ले लिया…इन आदिवासी बहनों ने वही rice mill खरीद ली…आज वो अपनी खुद की rice mill चला रही हैं।
  • पर्यटन मंत्रालय के regional office ने महीने के शुरू में ही बंगाल के गांवों में एक ‘Incredible India Weekend Gateway’ की शुरुआत की… मुझे बताया गया कि Incredible India Weekend Getaways के दौरान handicrafts की जो बिक्री हुई, वो हस्त शिल्पकारों को बेहद प्रोत्साहित करने वाली है।
  • अगर मैं आपसे बुदेलखंड के बारे में बात करूं तो वो कौन सी चीजें हैं, जो आपके मन में आएंगी! इतिहास में रूचि रखने वाले लोग इस क्षेत्र को झांसी की रानी लक्ष्मीबाई के साथ जोड़ेंगे। वहीं, कुछ लोग सुन्दर और शांत ‘ओरछा’ के बारे में सोचेंगे।
  • Chile की कांग्रेस, यानी वहां की Parliament ने एक प्रस्ताव पारित किया है। वहां, 4 नवम्बर को National Yoga Day घोषित किया गया है। अब आप ये सोच सकते हैं कि आखिर 4 नवम्बर में ऐसा क्या है ? 4 नवम्बर 1962 को ही Chile का पहला योग संस्थान होज़े राफ़ाल एस्ट्राडा द्वारा स्थापित किया था | इस दिन को National Yoga Day घोषित करके Estrada जी को भी श्रद्धांजलि दी गई है।
  • Border Road Organisation जो सड़कें बनाती है, उससे गुजरते हुए आपको बड़े ही innovative slogans देखने को मिलते हैं।‘This is highway not runway’ या फिर ‘Be Mr. Late than Late Mr.’ ये slogans सड़क पर सावधानी बरतने को लेकर लोगों को जागरूक करने में काफी प्रभावी होते हैं।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *