दिल्ली-हरियाणा सीमा पर स्थित टिकरी बॉर्डर पर 26 नवंबर से ही हजारों किसान डटे हुए हैं। गणतंत्र दिवस के मौके पर किसान ट्रैक्टर मार्च के आयोजन के लिए किसानों के जत्थे अपने ट्रैक्टर लेकर टिकरी बॉर्डर पर पहुंचने लगे हैं। इसी बीच एक दंपति 300 किलोमीटर पैदल चलकर किसान आंदोलन में शामिल होने के लिए टिकरी बॉर्डर पहुंचे हैं।

पंजाब के भटिंडा जिले से 300 किलोमीटर पैदल चलकर पति-पत्नी किसान आंदोलन में शामिल होने के लिए पहुंचे हैं। भटिंडा जिले के फतेहाबाद से टिकरी बार्डर आए लवप्रीत सिंह ने बताया कि वे 10 जनवरी को अपने गांव से निकले थे। इस बीच में उन्होंने गांव-गांव में लोगों को किसान आंदोलन के बारे में बताया। शुक्रवार को वे टिकरी बार्डर पहुंचे।

26 जनवरी को किसान ट्रैक्टर मार्च, दिल्ली की सड़कों पर उतरेंगे तीन लाख ट्रैक्टर
भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि ट्रैक्टर मार्च को लेकर यूपी गेट बॉर्डर पर किसानों का जत्था लगातार आ रहा है। उन्होंने दावा किया कि गणतंत्र दिवस पर करीब तीन लाख ट्रैक्टर दिल्ली की सड़कों पर उतरेंगे। टिकैत ने कहा कि आंदोलन स्थल पर अराजक तत्वों पर खास नजर है। इसके लिए 500 वॉलंटियर को लगाया गया है, जो सभी लोगों की तलाशी लेंगे। इस दौरान वह खुद अपनी तलाशी कराएंगे। उनका कहना है किसान शांतिपूवर्क ट्रैक्टर मार्च करेंगे। किसी भी अराजक स्थिति के लिए पुलिस जिम्मेदार होगी।

उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड से लगभग 25,000 ट्रैक्टर हिस्सा लेंगे
राकेश टिकैत ने बताया कि 26 जनवरी को दिल्ली में होने वाली किसान परेड में उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड से लगभग 25,000 ट्रैक्टर हिस्सा लेंगे। उन्होंने आरोप लगाया कि दोनों प्रदेशों से निकलकर यूपी गेट की ओर बढ़ रही ट्रैक्टर-ट्रॉलियों को विभिन्न जिलों में पुलिस द्वारा रोका गया लेकिन किसान हर कीमत पर यहां पहुंचेंगे।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed