भारत ने बुधवार को दुनिया के देशों के लिए अपना वैक्सीन सप्लाई कार्यक्रम शुरू किया था। भारत ने पहले दो दिन सहायता के तौर पर वैक्सीन का वितरण करने के बाद कोविशिल्ड का वाणिज्यिक वितरण भी शुरू कर दिया है, जिसके तहत ब्राजील और मोरक्को को वैक्सीन सप्लाई की गई है।

भारत सरकार की ओर से वैक्सीन का अनुदान

दरअसल शुरुआत में पड़ोसी देशों को अनुदान स्वरूप वैक्सीन खुराकें दी गई थीं। यह सहायता उन देशों में अग्रिम पंक्ति में कोरोना के खिलाफ लड़ रहे योद्धाओं के लिए है। इसके तहत सबसे पहले भूटान और मालदीव को क्रमश: डेढ और एक लाख वैक्सीन खुराकें भेजी गईंं। इसके बाद गुरुवार को भारत ने नेपाल और बांग्लादेश को क्रमश: 10 लाख और 20 लाख वैक्सीन खुराकें भेजीं। इसके बाद आज म्यांमार को 15 लाख, मॉरिशस को डेढ़ लाख और सेशेल्स को 50 हजार वैक्सीन खुराकें भेजी गई हैं।

विदेश मंत्री एस जयशंकर का कहना है कि यह भारत की विशेष मित्रता और पड़ोसी प्रथम की नीति को प्रदर्शित करता है। आज उन्होंने वैक्सीन के म्यांमार पहुंचने की तस्वीर साझा कर कहा कि भारतीय टीके हमारे पड़ोसी के टीकाकरण प्रयासों में योगदान करने के लिए म्यांमार पहुंचे हैं। यह ‘एक्ट ईस्ट और एक्ट फास्ट’ की नीति का हिस्सा है।

आज से वैक्सीन की वाणिज्यिक सप्लाई

भारत ने आज से वैक्सीन की वाणिज्यिक सप्लाई भी शुरू कर दी है। सीरम इंस्टीट्यूट के साथ कई देशों ने समझौता किया है। इसके तहत ब्राजील और मोरक्को को 20-20 लाख खुराकें सप्लाई की जाएंगी। वैक्सीन की सप्लाई के बाद दुनिया के देश भारत और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का धन्यवाद दे रहे हैं।

दुनिया भर के नेताओं ने पीएम को कहा शुक्रिया

नेपाल

नेपाल के प्रधानमंत्री का कहना है कि अपने देश में टीकाकरण कार्यक्रम के बीच भारत नेपाल को वैक्सीन दे रहा है इसके लिए धन्यवाद। इसके जवाब में प्रधानमंत्री ने भारत की नेपाल के प्रति कोविड लड़ाई में मदद की प्रतिबद्धता दोहराई और इसे देश के वैश्विक महामारी से बचाव का हिस्सा बताया।

मालदीव

मालदीव के राष्ट्रपति, नेपाल के प्रधानमंत्री के बाद बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने उपहार के लिए प्रधानमंत्री मोदी का धन्यवाद दिया और कहा कि जल्द ही भारत से वाणिज्यिक वैक्सीन सप्लाई भी आनी शुरू हो जाएगी।

ब्राजील

वहीं ब्राजील के नेतृत्व ने भी भारत की सराहना की है। ब्राजील के विदेश मंत्री अर्नेस्टो अराउजो ने कहा है कि भारत सरकार ने ब्राजील को सर्वोच्च प्राथमिकता में रखा है। हम भारत में खरीदे गए कोविड के टीके प्राप्त करने वाले पहले दो देशों में से एक हैं। विदेश मंत्री ने इसके लिए उन्हें साधुवाद दिया है। ब्राजील में भारत के राजदूत सुरेश रेड्डी ने कहा कि यह दोनों देशों के विशेष संबंध और सच्चे सहयोगी होना दर्शाता है।

दुनिया के कई देशों को वैक्सीन मुहैया करा रहा है भारत

कोविड टीकाकरण कार्यक्रम शुरू होने के कुछ दिनों के अंदर ही भारत ने दुनिया को वैक्सीन मुहैया कराने का कार्य शुरू कर दिया है। सरकार का कहना है कि इसकी शुरुआत देश अपनी जरूरतों और वैश्विक दायित्वों के बीच संतुलन बनाते हुए पड़ोसी देशों को अनुदान सहायता के रूप में करेगी। इसी क्रम में आज तीन देशों के लिए भारत की अनुदान सहायता रूप में दी गई वैक्सीन रवाना हुई।

विदेश मंत्रालय ने मंगलवार को कहा था कि भारत सरकार को पड़ोसी और प्रमुख भागीदार देशों से भारतीय निर्मित टीकों की आपूर्ति के लिए कई अनुरोध प्राप्त हुए हैं। वैक्सीन उत्पादन और वितरण क्षमता के चलते भारत की प्रतिबद्धता को ध्यान में रखते हुए भूटान, मालदीव, बांग्लादेश, नेपाल, म्यांमार और सेशल्स को अनुदान सहायता के तहत बुधवार से आपूर्ति शुरू की जाएगी। वहीं श्रीलंका, अफगानिस्तान और मॉरिशस के संबंध में भारत अभी आवश्यक नियामक मंजूरी की प्रतीक्षा कर रहा है।

वैक्सीन से पहले दवाई भी कर चुका है सप्लाई

भारत ने कोविड-19 महामारी के शुरुआती कालखंड में बड़ी संख्या में देशों को हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन, रेमडेसिवीर इंजेक्शन और पेरासिटामोल गोलियों के साथ-साथ डायग्नोस्टिक किट, वेंटिलेटर, मास्क, दस्ताने और अन्य चिकित्सा आपूर्ति भी सप्लाई की थी।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *