कोविड टीकाकरण अभियान का आज सातवां दिन है। वाराणसी के लाभार्थियों और टीकाकरण करने वाले कर्मियों से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद संवाद किया। खुद को ‘काशी का सेवक’ बताते हुए पीएम मोदी ने वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के जरिए 16 जनवरी से शुरू हुए अभियान पर फीडबैक भी लिया। उन्‍होंने कहा कि ‘बीते कुछ वर्षों में बनारस और आसपास के इलाकों में जो मेडिकल इंफ्रास्ट्रक्चर बना है उससे पूरे पूर्वांचल को फायदा हुआ है।’ टीकाकरण कर्मियों और हेल्‍थ वर्कर्स को धन्‍यवाद देते हुए पीएम मोदी ने क्‍या-क्‍या कहा, आइए जानते हैं।

सिद्धि का नतीजा है ये अभियान: पीएम मोदी
पीएम ने शुरुआत के अपने संबोधन में कहा, “2021 की शुरुआत बहुत ही शुभ संकल्पों से हुई है। काशी के बारे में कहते हैं कि यहां शुभता सिद्धि में बदल जाती है। इसी सिद्धि का परिणाम है कि आज विश्व का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान हमारे देश में चल रहा है। दो मेड इन इंडिया वैक्सीन भारत में तैयार हुई हैं. इस मामले में भारत ना सिर्फ पूरी तरह से आत्मनिर्भर है बल्कि कई देशों की मदद भी कर रहा है।”

सबसे पहले टीका पाने वाली पुष्‍पा से की बात
वाराणसी के जिला महिला अस्‍पताल की मैट्रन पुष्‍पा देवी को यहां पर सबसे पहले वैक्‍सीन दी गई थी। उन्‍होंने पीएम को धन्‍यवाद देते हुए कहा कि ‘पहले चरण में सबसे पहले मुझे वैक्‍सीन लगाई गई। मैं अपने आपको बेहद सौभाग्‍यशाली मान रही हूं। मैं सुरक्षित महसूस कर रही हूं।’ पुष्‍पा ने कहा, “मुझे कोई साइड इफेक्‍ट नहीं है। जैसे अन्‍य इंजेक्‍शन लगते हैं, वैसे ही यह इंजेक्‍शन भी लगा।’ पीएम मोदी ने कहा कि ‘यह आप जैसे लाखों-करोड़ों कोरोना वॉरियर्स और 130 करोड़ भारतीयों की सफलता है।’ इसके बाद उन्‍होंने साइड इफेक्‍ट्स को लेकर पूछा कि क्‍या वे पूरे विश्‍वास से ऐसा कह सकती हैं? तब पुष्‍पा ने कहा कि ‘किसी के मन में यह डर नहीं रहना चाहिए कि वैक्‍सीन से कुछ हो जाएगा।’ANM ने बताया, टीका लगाने पर मिलता है आशीर्वाद
जिला महिला अस्‍पताल में ही एएनएम के पद पर कार्यरत रानी कुंवर टीकाकरण अभियान में शामिल हैं। उनसे पीएम मोदी ने पूछा कि एक दिन में कितने लोगों को वैक्‍सीन देती हैं तो उन्‍होंने कहा कि डेली करीब 100 लोगों को टीका लगता है। जब रानी ने टीकाकरण अभियान का क्रेडिट पीएम मोदी को दिया तो उन्‍होंने कहा कि इसका क्रेडिट ‘वैज्ञानिकों और आप जैसे हेल्‍थ वर्कर्स को जाता है।’ पीएम के पूछने पर रानी ने कहा कि वे जब टीका लगाती हैं तो उन्‍हें ‘खूब आशीर्वाद मिलता है।’ पीएम ने कहा कहा कि ‘कोई भी वैक्सीन बनाने के पीछे वैज्ञानिकों की मेहनत और वैज्ञानिक प्रक्रिया होती है। मेरे ऊपर राजनैतिक दबाव भी बनाया गया लेकिन मैंने कहा, इस मामले में वैज्ञानिक सब तय करेंगे।’खुद को वैक्‍सीन लगवाई, फिर लग गए काम में
पंडित दीनदयाल उपाध्‍याय चिकित्‍सालय में सीनियर लैब टेक्‍नीशियन रमेश चंद्र राय ने कहा कि ‘हम तो सबको यही कहते हैं कि खुद सुरक्षित रहिए, परिवार को सुरक्षित करिए, समाज को सुरक्षित करिए।’ राय ने कहा कि पहले दिन 81 लोगों ने टीकाकरण कराया। वाराणसी ग्रामीण एरिया में एएनएम (हाथीबाजार) श्रृंखला चौहान की तारीफ में पीएम मोदी ने कहा कि आप सेवा करके सबको नाम रोशन कर रही हैं। पीएम के पूछने पर चौहान ने बताया कि 16 जनवरी को खुद उन्‍होंने कोविशील्‍ड की पहली डोज लगवाई। इसके बाद बतौर वैक्‍सीनेटर 87 लोगों को उन्‍होंने टीका भी लगाया।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *