अमेरिकी इतिहास में डोनाल्ड ट्रंप पहले ऐसे राष्ट्रपति हैं जिन पर एक कार्यकाल में दो बार महाभियोग का प्रस्ताव पारित हो गया है। संभव है कि इसके कारण उनको समय से पहले ही सत्ता से हटाया जा सकता है। दरअसल प्रतिनिधि सभा ने अमेरिका की राजधानी में तोड़फोड़ को बेहद गंभीरता से लेते हुए महाभियोग का प्रस्ताव पास करा लिया है। प्रतिनिधि सभा ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ दूसरे महाभियोग के प्रस्ताव के पक्ष में 232 और विपक्ष में 197 वोट पड़े।

दरअसल राष्ट्रपति चुनाव के बाद अमेरिका की राजधानी समेत कई प्रांतों में अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के चुनाव हारने के बाद उनके समर्थकों द्वारा तोड़फोड़ से अमेरिका में अराजकता के हालात पैदा हो गए थे। राजधानी में तोड़फोड़ के एक सप्ताह के अंदर प्रतिनिधि सभा ने राष्ट्रपति ट्रंप के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव पास कराया गया। भारतीय समयानुसार देर रात सभा में यह प्रस्ताव पास किया गया।

इससे पहले ट्रंप के खिलाफ महाभियोग शुरू होते ही अमेरिकी सदन के अध्यक्ष पेलोसी कहते हैं, उन्हें जाना चाहिए, “हम जानते हैं कि संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति ने इस विद्रोह, हमारे आम देश के खिलाफ इस सशस्त्र विद्रोह को उकसाया था। उन्हें जाना चाहिए। वह राष्ट्र व वर्तमान के लिए खतरा हैं। उन्होंने कहा कि 6 जनवरी को हुए दंगों के बाद रिपब्लिकन राष्ट्रपति ने पांच लोगों को मार डाला। “

अमेरिकी प्रतिनिधि जेसन क्रो, कोलोराडो के डेमोक्रेट ने कहा कि डेमोक्रेटिक-नियंत्रित अमेरिकी प्रतिनिधि सभा के बहुमत ने बुधवार को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को महाभियोग चलाने वाले कानून को अग्रिम करने के लिए मतदान किया।

प्रतिनिधि सभा से महाभियोग का प्रस्ताव पास होने के बाद इसे सीनेट में मतदान के लिए लाया जाएगा। अगर सीनेट में भी महाभियोग का प्रस्ताव पास हो जाता है तो डोनाल्ड ट्रंप को तय समय से पहले ही राष्ट्रपति का पद छोड़ना होगा। वहीं 20 जनवरी को जो बाइडेन अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति के रूप में पदभार संभालेंगे।
बता दें कि इससे पहले राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर इससे पहले 2019 में भी महाभियोग चलाया गया था।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *