हार्टबर्न या गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स (जीईआरडी) कहने के लिए काफी असुविधाजनक है। लेकिन शोधकर्ताओं ने पाया है कि इन 5 जीवनशैली दिशा निर्देशों के जरिए इसके लक्षणों को कम किया जा सकता है।

हार्टबर्न शायद सबसे असहज गैस्ट्रिक समस्याओं में से एक है, जिसका सामना कोई भी व्यक्ति कर सकता है। यह एक ऐसी जलन है जो आपके पेट से छाती तक फैल जाती है। हार्टबर्न या गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स (जीईआरडी) पूरी तरह से रोकथाम योग्य है।

वास्तव में, आहार, जीवन शैली और स्वास्थ्य के एक लंबे समय के अध्ययन में पाया गया है कि विशिष्ट आहार दिशा निर्देशों का पालन करने से, महिलाएं इसके एक-तिहाई से भी अधिक लक्षणों को कम कर सकती हैं।

नर्सिंग हेल्थ स्टडी, जो कि महिलाओं के स्वास्थ्य पर लंबे समय तक चलने वाले अध्ययनों में से एक है, यह दर्शाता है कि 5 डाइट और जीवनशैली कारक, जिसमें नियमित व्ययाम भी शामिल है, हार्टबर्न के लक्षणों पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकते हैं।

जीईआरडी (GERD) एक सामान्य स्थिति है, इसका हार्टबर्न एक मुख्य लक्षण है। जिसे अक्सर एंटासिड दवाओं के साथ मैनेज किया जाता है। लेकिन अध्ययन से पता चलता है कि निम्नलिखित आहार और जीवनशैली में कुछ बदलाव इस स्थिति में मददगार हो सकते हैं।

ये हैं हार्टबर्न से राहत पाने के 5 तरीके

  1. वजन सामान्य होना
  2. कभी स्मोकिंग न करना
  3. रोजाना कम से कम 30 मिनट के लिए मध्यम से तीव्र शारीरिक गतिविधि करना
  4. कॉफी का सेवन कम करना, दिन में सिर्फ दो कप चाय और सोड़ा पीना
  5. एक विवेकपूर्ण आहार

यह देखते हुए कि जीईआरडी के दीर्घकालिक स्वास्थ्य प्रभाव हैं और इसका इलाज करने के लिए उपयोग की जाने वाली दवाओं के दुष्प्रभावों को लेकर कई चिंताएं हैं, तो ऐसे में लक्षणों को नियंत्रित करने के लिए जीवन शैली को सबसे अच्छा विकल्प माना जाना चाहिए।

दूसरे शब्दों में, उन्होंने अनुमान लगाया कि यह कितनी संभावना है कि प्रत्येक जीवन शैली कारक ने लक्षणों का अनुभव करने का जोखिम कम किया। उन्होंने पाया कि इन सभी दिशानिर्देशों का पालन करने से जीईआरडी के लक्षणों को 37% तक कम किया जा सकता है।

एक महिला ने जितने विशिष्ट दिशा-निर्देशों का पालन किया, उसके लक्षणों का जोखिम उतना ही कम हो गया। सामान्य हार्टबर्न का उपचार करने वाली महिलाओं में, दिशानिर्देशों का पालन करने से भी लक्षण कम हो गए।

हम विशेष रूप से शारीरिक गतिविधि की प्रभावशीलता में रुचि रखते थे। यह उन पहले अध्ययनों में से एक है जिसने जीईआरडी को नियंत्रित करने में इसकी प्रभावशीलता का प्रदर्शन किया है। यह प्रभाव, पाचन तंत्र की गतिशीलता पर व्यायाम के प्रभाव के कारण हो सकता है। शारीरिक रूप से सक्रिय होने से पेट के एसिड की निकासी में मदद मिल सकती है, जो हार्टबर्न के लक्षण का कारण बनता है।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *