कॉमेडियन कपिल शर्मा ने कार डिजाइनर दिलीप छाबड़िया के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज कराया है। इस सिलसिले में कपिल शर्मा को पुलिस ने बयान दर्ज कराने के लिए समन जारी किया है। कपिल शर्मा ने मुंबई पुलिस के समक्ष केस दर्ज कराते हुए दिलीप छाबड़िया पर धोखा देने का आरोप लगाया था। बीते साल 28 दिसंबर को मुंबई पुलिस ने दिलीप छाबड़िया को अरेस्ट किया था। कार मॉडिफिकेशन स्टूडियो डीसी डिजाइन के फाउंडर छाबड़िया को पुलिस ने कार रजिस्ट्रेशन रैकेट के मामले में अरेस्ट किया था। दिलीप छाबड़िया पर धोखाधड़ी, आपराधिक साजिश के तहत केस दर्ज किया गया है। आईपीसी के सेक्शन 420 के तहत कपिल शर्मा के खिलाफ केस फाइल हुआ है।

मुंबई पुलिस की क्राइम इंटेलिजेंस यूनिट ने दिलीप छाबड़िया की फैक्ट्री में रेड कर 14 कारें और 40 इंजन बरामद किए थे। इसके अलावा यूनिट को फैक्ट्री परिसर में 19 लग्जरी कारें और बाइक्स भी मिली थीं। पूछताछ में पुलिस को यह जानकारी मिली है कि छाबड़िया और उनकी फर्म ने कई नॉन-बैंकिंग फाइनेंस कंपनियों से खुद ग्राहक बताते हुए डीसी स्पोर्ट्स कारों की खरीद के लिए लोन ले लिए थे। दिलीप छाबड़िया डिजाइंस प्राइवेट लिमिटेड की ओर से प्रति कार 42 लाख रुपये तक का लोन लिया गया था। कंपनी ने भारत में बिकीं कुल 120 कारों में से 90 पर लोन ले लिया था। यहां तक कि कई कारों पर तो कंपनी ने तब लोन हासिल किया, जब उसने उन्हें ग्राहकों को बेच दिया था। 

इस पूरे फर्जीवाड़े का खुलासा तब हुआ था, जब क्राइम इंटेलिजेंस यूनिट के असिस्टेंट पुलिस इन्सपेक्टर सचिन वजे को एक टिप मिली थी कि दक्षिण मुंबई में एक टू-सीटर स्पोर्ट्स कार फर्जी रजिस्ट्रेशन नंबर के साथ चलती देखी गई है। इसके बाद उस कार को रोका गया। 18 दिसंबर को पुलिस ने उस कार को रोका था और फिर जांच करने पर पता चला कि इसी इंजन और चेसिस नंबर पर एक कार हरियाणा में भी रजिस्टर्ड है। इसके बाद पुलिस ने 28 दिसंबर को दिलीप छाबड़िया को अरेस्ट कर लिया था।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *